दिल्ली का मौसम सोमवार के बाद एक बार फिर से करवट बदलेगा। पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से मंगलवार और बुधवार को दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में हल्की बरसात होने की संभावना है। इसके चलते तापमान में भी गिरावट आएगी। 
दिल्ली में बीते दो दिनों से दिन भर धूप खिलने के चलते मौसम सुहाना हो गया है। शनिवार के दिन भी सुबह से ही धूप निकली रही। दिन चढ़ने के साथ ही धूप तीखी होती गई। इसके चलते तापमान में अपेक्षाकृत इजाफा हुआ है। 

मौसम विभाग के सफदरजंग केंद्र में दिन का अधिकतम तापमान 21.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्य से एक डिग्री कम है। वहीं, आसमान साफ होने के चलते न्यूनतम तापमान में खासी गिरावट आई है। सफदरजंग केंद्र में न्यूनतम तापमान 4.8 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया जो सामान्य से तीन डिग्री कम है। मौसम विभाग का अनुमान है कि रविवार के दिन दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में हल्के से लेकर मध्यम स्तर का कोहरा देखने को मिल सकता है। जबकि, दिन के समय आसमान साफ रहने की उम्मीद है। 

वहीं, दिल्ली के मौसम में बदलाव लाने के लिए एक और पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो रहा है। सोमवार के बाद दिल्ली पर इसका असर देखने को मिलेगा। पश्चिमी विक्षोभ के असर से मंगलवार और बुधवार के दिन दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में हल्की बरसात देखने को मिल सकती है। इससे तापमान में गिरावट आएगी। इस दौरान तापमान सात से 18 डिग्री सेल्सियस के बीच रह सकता है। 

हवा की रफ्तार घटने से प्रदूषण बढ़ा
हवा की रफ्तार कम होने से प्रदूषण के स्तर में थोड़ा इजाफा हुआ है। शनिवार के दिन हवा की रफ्तार छह किलोमीटर प्रति घंटे तक ही रही। इसके चलते प्रदूषक कणों का बिखराव धीमा हो गया है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक शनिवार का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 250 के अंक पर रहा। इस स्तर की हवा को खराब श्रेणी में रखा जाता है। सफर का अनुमान है कि अगले एक-दो दिन में वायु गुणवत्ता और खराब होकर बेहद खराब श्रेणी में जा सकती है।