लंदन,ब्रिटेन के आम चुनाव में कंजर्वेटिव पार्टी ने शानदार जीत हासिल करते हुए बहुमत के जादुई आंकड़े 326 को पार कर लिया है। 1980 के दशक में मार्ग्रेट थैचर के दौर के बाद कंजर्वेटिव पार्टी की यह सबसे बड़ी जीत मानी जा रही है। भारतीय समयानुसार शुक्रवार साढ़े 11 बजे तक हाउस ऑफ कॉमन्स की कुल 650 में से 639 सीटों के नतीजे घोषित हो चुके हैं। इनमें से बोरिस जॉनसन की कंजर्वेटिव पार्टी को 357 सीटों पर जीत मिल चुकी है जबकि लेबर पार्टी के खाते में 202 सीटें आई हैं।

मुख्य विपक्षी लेबर पार्टी के नेता जेरेमी कॉर्बिन ने अपनी हार स्वीकारते हुए ऐलान किया है कि वह अगले आम चुनाव में पार्टी का नेतृत्व नहीं करेंगे। लेबर पार्टी 1935 के बाद अबतक की सबसे बुरी हार की तरफ बढ़ रही है। दूसरी तरफ, कंजर्वेटिव पार्टी 1987 के बाद अपनी सबसे बड़ी जीत की तरफ बढ़ रही है। 2017 के पिछले चुनाव में कंजर्वेटिव को 318 सीटों पर जीत मिली थी जबकि लेबर पार्टी को 262 सीटें मिली थीं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनाव में जीत हासिल करने के लिए बोरिस जॉनसन को बधाई दी है। उन्होंने ट्वीट किया, 'पीएम बोरिस जॉनसन को प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में लौटने के लिए बहुत-बहुत बधाई। मेरी उनको शुभकामनाएं। मैं भारत-ब्रिटेन के करीबी रिश्तों के लिए साथ में मिलकर काम करने की कामना करता हूं।'


चुनाव नतीजों ने न सिर्फ बोरिस जॉनसन के फिर सत्ता में आने को तय किया है बल्कि यूरोपीय यूनियन से ब्रिटेन के अलग होने यानी ब्रेग्जिट की राह को आसान कर दी है। जॉनसन के पिछले मंत्रिमंडल में वरिष्ठ मंत्री रही भारतीय मूल की प्रीति पटेल ने कहा, 'हम प्राथमिकताओं को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं और ब्रेग्जिट हमारी प्राथमिकता है। समझौता तैयार है और हम आगे बढ़ना चाहते हैं।'

गौरतलब है कि जॉनसन ने कंजर्वेटिव पार्टी को बहुमत दिलाने और ब्रेग्जिट को लेकर हाउस ऑफ कॉमन्स में गतिरोध तोड़ने की कवायद के तहत मध्यावधि चुनाव की घोषणा की थी। करीब एक सदी बाद ब्रिटेन में विंटर में इलेक्शन हुए हैं। दिसंबर में हुए चुनाव में वोटरों ने ठिठुरती ठंड में घरों से बाहर निकलकर वोट डाला।