नई दिल्ली ।  भारत-नेपाल सीमा पर कई जगहों पर लोगों की आवाजाही में दिक्कतें हो रही हैं। कोविड-19 प्रोटोकॉल के मुताबिक रास्ता तलाशने के लिए अधिकारियों के स्तर पर संपर्क बना हुआ है। एसएसबी के अधिकारियों ने बताया कि उत्तराखंड के धारचूला में भारत-नेपाल को जोड़ने वाला इंटरनेशनल पुल शुक्रवार शाम 4 बजे एक घंटे के लिए खुलना था। दोनों देश के अधिकारियों ने यह तय किया था, लेकिन स्थानीय विरोध के चलते ये संभव नहीं हो पाया। स्थानीय लोगों का कहना था कि हमारी तरफ नेपाल के लोगों को आने की इजाजत दी जा रही है, लेकिन नेपाल की तरफ भारतीयों को नहीं जाने दिया जा रहा है। भारत नेपाल सीमा पर हुई है, लेकिन इसके पीछे कोई मोटिव तलाशना ठीक नहीं है। कई जगहों पर ज्यादा भीड़ की वजह से कुछ समस्या हुई, लेकिन मार्च से ही कोरोना प्रबंधन के तहत ही फैसले लिए जा रहे हैं। एसएसबी के एक अन्य अधिकारी ने कहा कि कोविड-19 की वजह से मार्च से ही सीमा पर ये स्थित है। बीच में बॉर्डर पूरी तरह सील कर दिया गया था। कुछ जरूरी सेवाओं को लेकर शिथिलता का प्रयास किया। भारत की ओर से कुछ रियायतें भी दी गई, लेकिन नेपाली सुरक्षा बलों ने अपनी ओर कड़ाई जारी रखी है। अधिकारी ने कहा फिलहाल कोरोना की वजह से स्वास्थ्य सुरक्षा को ध्यान में रखकर कदम उठाए जा रहे हैं।