नई दिल्ली ।  दुनिया के प्रमुख और मशहूर कारोबारी एलन मस्क की ऑटो कंपनी टेस्ला ने भारत में निवेश के लिए नीदरलैंड का रास्ता चुना है। इसके पीछे कंपनी का मकसद टैक्स बचाना है। टेस्ला ने भारत में टेस्ला मोटर्स एंड एनर्जी, इंडिया के नाम से रजिस्ट्रेशन किया है जिसकी पेरेंट कंपनी टेस्ला मोटर्स एम्सटर्डम है। विशेषज्ञों के मुताबिक भारत में इस कॉरपोरेट स्ट्रक्चर से कंपनी को कैपिटल गेंस और डिविडेंड पेमेंट्स में टैक्स की बचत होगी। साथ ही टेस्ला की चॉइस ऑटो इंडस्ट्री में एक अपवाद है। एमजी मोटर्स ने 2017 में चीन के जरिए भारत में प्रवेश ‎किया था। उसकी पेरेंट कंपनी एसएआईसी मोटर्स चीन की है। इसी तरह किया मोटर्स दक्षिण कोरिया के रास्ते भारत में आई थी जो उसकी पेरेंट कंपनी किया कॉर्प का कॉरपोरेट होम है। इस बारे में टेस्ला को भेजे गए ईमेल का कोई जवाब नहीं आया।टेस्ला अमेरिकी प्रांत कैलिफोर्निया में रजिस्टर्ड है जबकि टेस्ला मोटर्स, नीदरलैंड उसकी सहयोगी कंपनी है।