कोरबा । विगत 25 नवम्बर से नगर पालिक निगम कोरबा क्षेत्र में चलाए जा रहे स्वच्छता महाअभियान का दूसरा चरण आज से प्रारंभ किया गया, दूसरे चरण के तहत आज निगम के बालको, दर्री, बांकीमोंगरा एवं सर्वमंगला जोन के 07 वार्डो में वृहद स्वच्छता ड्राइव चलाई गई। नाले-नालियों की सफाई, सड़कों के किनारे ऊगी घांस-झाड़ियों की सफाई, सी.एण्ड डी.वेस्ट आदि का उठाव, कीटनाशक दवाओं का छिड़काव आदि के साथ-साथ अन्य साफ-सफाई से संबंधित कार्यो को वृहद पैमाने पर  कराया गया।  
यहां उल्लेखनीय है कि प्रदेश के मुख्य सचिव श्री आर.पी.मण्डल के मंशा के अनुरूप कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल के कुशल मार्गदर्शन एवं आयुक्त श्री राहुल देव व ए.डी.एम. श्री संजय अग्रवाल के दिशा निर्देशन में विगत 25 नवम्बर से स्वच्छता का महाअभियान नगर पालिक निगम कोरबा क्षेत्र में चलाया जा रहा है। महाअभियान के प्रथम चरण में 25 नवम्बर से 06 दिसम्बर तक निगम के कोरबा जोन, टी.पी.नगर, कोसाबाड़ी व रविशंकर नगर जोन के 33 वार्डो में वृहद स्वच्छता ड्राइव एक सुनियोजित कार्ययोजना के तहत चलाई गई तथा विशेष साफ-सफाई के कार्य संपादित कराए गए। आज 09 दिसम्बर से महाअभियान का द्वितीय चरण प्रारंभ किया गया, द्वितीय चरण के प्रथम दिन आज निगम के बालको जोन, दर्री जोन, बांकीमोंगरा जोन एवं सर्वमंगला जोन के सात वार्डो में स्वच्छता ड्राइव संचालित की गई। इन वार्डो में स्थित दर्जनों बस्तियों, मोहल्लों, मुख्य एवं संपर्क मार्गो में विशेष साफ-सफाई का कार्य कराया गया तथा नाले-नालियों की सम्पूर्ण सफाई, सड़कों की सफाई, सड़कों के किनारे घांस-झाड़ियों की सफाई, सी.एण्ड डी.वेस्ट का उठाव एवं परिवहन, कीटनाशक दवाओं का छिड़काव सहित अन्य स्वच्छता से संबंधित कार्य एक अभियान के रूप में संचालित कराए गए।  
14 अभियान दल दे रहे अपनी सेवाएं- स्वच्छता महाअभियान के दूसरे चरण के अंतर्गत आज से प्रारंभ किए गए विशेष सफाई अभियान हेतु सफाई कार्यो से संबंधित 07 एवं सिविल कार्यो से संबंधित 07 कुल 14 दल प्रतिदिन अपनी सेवाएं दे रहे हैं, इसके साथ ही सफाई कार्यो की मानीटरिंग हेतु निगम के जोन कमिश्नर, जोन प्रभारी, उप जोन प्रभारी, राजस्व अधिकारी, स्वच्छता विभाग के अधिकारी व निरीक्षकों के साथ-साथ निगम के अन्य अधिकारी कर्मचारियों की तैनाती की गई है। स्वच्छता कर्मचारियों द्वारा मैन्यूअली सफाई कार्य करने के साथ-साथ जे.सी.बी. मशीनों, टैक्टर ट्राली, टिपर तथा अन्य वाहनों, सफाई उपकरणों एवं उपलब्ध समस्त संसाधनों का उपयोग अभियान के दौरान किया जा रहा है।  
सार्वजनिक उपक्रमों को भी दी गई जिम्मेदारी- निगम क्षेत्र में स्थित सार्वजनिक व औद्योगिक उपक्रमों के आधिपत्य वाले क्षेत्रों में स्थित वार्डो में इन संबंधित उपक्रमों को भी स्वच्छता ड्राइव चलाने एवं निगम के साथ बेहतर तालमेल स्थापित कर सफाई कार्य करने की जिम्मेदारी कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल के द्वारा दी गई है, इन उपक्रमों द्वारा भी सफाई कार्यो में अपनी सहभागिता दी जा रही है।  
सफाई कार्यो के साथ जनजागरूकता- महाअभियान के प्रथम चरण की भांति दूसरे चरण में भी विशेष साफ-सफाई कार्यो के साथ-साथ स्वच्छता के प्रति लोगों को जागरूक करने का अभियान चलाया जा रहा है तथा इसके लिए विभिन्न स्वयंसेवी संगठनों, महिला स्वसहायता समूहों, सामुदायिक संगठकों, भारत स्काउट गाईड के सदस्यों आदि का सहयोग लिया जा रहा है। इसी कड़ी में आज भी महिला स्वसहायता समूह की सदस्यों, सामुदायिक संगठकों एवं स्वच्छ कोरबा स्क्वाड के सदस्यों ने घर-घर पहुंचकर साफ-सफाई के प्रति लोगों को जागरूक किया, उन्हें स्वच्छता शपथ दिलाई तथा स्वच्छता शपथ पत्र पर हस्ताक्षर कराया।  
इन वार्डो में चलाई गई स्वच्छता ड्राइव- स्वच्छता महाअभियान के द्वितीय चरण के प्रथम दिन आज बालको जोन के वार्ड क्र. 34 चेकपोस्ट अमरसिंह होटल, वार्ड क्र. 35 हाउसिंग बोर्ड शांतिनगर, दर्री जोनांतर्गत वार्ड क्र. 43 कलमीडुग्गू जयभगवान गली, श्यामनगर, वार्ड क्र. 43 के ही राजीवनगर स्थित विभिन्न स्थानों एवं उड़िया बस्ती में स्वच्छता ड्राइव चलाई गई। इसी प्रकार सर्वमंगला जोनांतर्गत वार्ड क्र. 54 बरमपुर चौक से अशोक पटेल घर के आगे तक, वार्ड क्र. 59 विकास नगर चौक से आई.बी.पी.मोड़ तक तथा बांकीमोंगरा जोनांतर्गत वार्ड क्र. 66 श्याम महाराज घर से होते हुए अजीत ठाकुर के घर तक स्वच्छता ड्राइव संचालित की गई।  
प्रथम चरण में 51 रनिग किमी. नाली, 95 रनिंग किमी.सड़क की हुई थी सफाई - स्वच्छता महाअभियान के प्रथम चरण के तहत 25 नवम्बर से 06 दिसम्बर तक चलाए गए स्वच्छता महाअभियान के दौरान 51 रनिंग किलोमीटर नालियों से कचरा एवं मलबा निकालकर सफाई कराई गई थी, इसके साथ ही 95 रनिंग किलोमीटर सड़कों की भी सफाई अभियान के दौरान हुई थी। इस दौरान 337 ट्रीप टेक्टर से एक हजार 835 घनमीटर कचरे को शहर से बाहर किया गया था। सड़कों और नालियों पर कचरा फेलाने, निर्माण सामग्रियों के भण्डारण आदि के मामलों में शहर में प्रथम चरण के दौरान 63 हजार 950 रूपये का जुर्माना भी निगम अधिकारियों द्वारा वसूला गया था।