लखनऊ | उत्तर प्रदेश की राजधानी की दोनों लोकसभा सीट से पर्चा भरने वाले भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशियों की सम्पत्ति पांच वर्षों में दोगुनी हो गई है। लखनऊ के प्रत्याशी व देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह की सम्पत्ति में इजाफा समय की तुलना में सामान्य है। जबकि मोहनलालगंज से प्रत्याशी कौशल किशोर की विधायक पत्नी की सम्पत्ति दो गुनी से कहीं अधिक है। 

राजनाथ के पास गाड़ी आज भी नहीं : राजनाथ सिंह के पास चार पहिया वाहन आज भी नहीं है। 2014 चुनाव के दौरान दिए गए शपथ पत्र से तुलना करें तो उस समय उनके पास घोषित सम्पत्ति की कुल कीमत 2.51 करोड़ थी। वहीं 2019 में यह सम्पत्ति बढ़कर 4.61 करोड़ हो गई है। 2014 में चल सम्पत्ति जहां 61.72 लाख थी। वहीं अब चल सम्पत्ति 1.64 करोड़ हो गई है। अचल सम्पत्ति भी 1.90 करोड़ से बढ़कर 2.97 करोड़ हो गई है। जिसमें विपुल खंड स्थित मकान और चंदौली में पैतृक जमीन तब भी जुड़ी थी और अब भी जुड़ी है। जबकि पत्नी के पास रहे 40 लाख रुपए अब 53 लाख हो गए हैं। बीते पांच वर्षों में सम्पत्ति के बाजार भाव में हुआ इजाफा, सांसद का वेतन आदि मिला दें तो सम्पत्ति में हुई वृद्धि का ग्राफ सामान्य लगता है। 

कौशल से अधिक बढ़ी जयदेवी की संपत्ति
कौशल किशोर की सम्पत्ति दो गुने तक पहुंची, लेकिन पत्नी व मलिहाबाद विधानसभा क्षेत्र से विधायक जय देवी की सम्पत्ति में बढ़ा इजाफा दिखाई दे रहा है। सम्पत्ति के विवरण के अनुसार सांसद कौशल किशोर के पास 2014 के चुनाव के समय कोई गाड़ी नहीं थी। 

इधर बीते वर्षों में उन्होंने एक महेन्द्राऔर इनोवा यानी चार पहिया के दो वाहन खरीदे हैं। दोनों गाड़ियां ही करीब 31 लाख की है। चार लाख की एलआईसी और बैंक में जमा पैसे को मिलाकर अब उनकी कुल सम्पत्ति 1.85 करोड़ से बढ़कर 3.97 करोड़ हो गई है। वहीं पत्नी जयदेवी की बात की जाए तो 2014 में सांसद की ओर से दिए गए शपथ पत्र में उनके पास करीब 25 लाख की चल व अचल सम्पत्ति थी। वहीं 2019 के शपथ पत्र के अनुसार अब सांसद की विधायक पत्नी की सम्पत्ति 1.57 करोड़ हो गई है।