लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने नमामि गंगे परियोजना (Namami Gange) से जुड़े कार्यों की समीक्षा की है. समीक्षा बैठक के दौरान कार्यों में हो रही देरी पर मुख्यमंत्री ने नाराजगी जाहिर की. उन्होंने निर्देश दिया कि जो भी ठेकेदार और अधिकारी कार्य में देरी की वजह बन रहे हैं, उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई जाए. सीएम योगी ने नमामि गंगे परियोजना में मिशन डायरेक्टर नियुक्त करने के भी निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि मिशन डायरेक्टर सीधे परियोजना स्थलों का दौरा कर गुणवत्ता के साथ समयबद्ध तरीके से कार्य को पूरा करवाएगा.

वाराणसी में देव दिवाली से पहले घाटों का काम हो जाए पूरा

इसके साथ ही उन्होंने परियोजना के कार्यों में देरी करने वाले ठेकेदारों और अधिकारियों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही करने के भी निर्देश दिए. सीएम योगी ने निर्देश दिया है कि 12 नवंबर को देव दिवाली का कार्यक्रम वाराणसी में आयोजित होगा, इससे पहले वहां सभी घाटों का कार्य पूरा हो जाना चाहिए.

बरेली, आगरा, गाजीपुर और मथुरा के एक्सईएन और चीफ इंजीनियर को भेजें नोटिस
मुख्यमंत्री ने कहा कि बरेली, आगरा, गाजीपुर और मथुरा में इस परियोजना के तहत आठ जुलाई से कार्य लंबित हैं, इसके लिए सिंचाई विभाग के एक्सईएन और चीफ इंजीनियर को नोटिस भेजकर तीन दिन में जवाबदेही तय की जाए. जरूरत पड़े तो उच्च अधिकारियों को भी जवाबदेह बनाया जाए.
उन्होंने विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि कई महीने से गायब रहने वाले फिरोजाबाद नगर निगम के चीफ इंजीनियर पर तत्काल कड़ी कार्रवाई की जाए. इस बैठक में जलशक्ति मंत्री डॉ. महेंद्र सिंह समेत सभी विभागों से प्रमुख सचिव मौजूद थे. यह समीक्षा बैठक लखनऊ स्थित मुख्यमंत्री आवास 5, कालीदास मार्ग पर हुई.