नई दिल्ली । देश की मशहूर वाहन निर्माता कंपनी महिंद्री एंड महिंद्रा ने अपनी इलेक्ट्रिक कार ई2o प्लस का उत्पादन बंद कर दिया है। रीवा प्लेटफॉर्म पर आधारित इस फोर डोर हैचबैक को ज्यादा अच्छा रिस्पॉन्स नहीं मिला और इसकी सेल काफी कम थी। लिहाजा कंपनी ने इसका घरेलू उत्पादन बंद करने का फैसला कर लिया है। उत्पादन बंद होने के पीछे नए सेफ्टी नॉर्म्स भी एक कारण है। यह इंडिया की पहली इलेक्ट्रिक कार थी। कंपनी ने ई2o की लास्ट यूनिट 31 मार्च को मैन्युफैक्चर की थी। महिंद्रा अपनी नई इलेक्ट्रिक हैचबैक केयूवी इलेक्ट्रिक पर काम कर रही है जिसे इस साल के अंत तक लॉन्च कर दिया जाएगा। माना जा रहा है कि इलेक्ट्रिक कार की कम मांग होने के चलते कंपनी एक ही समय में दो इलेक्ट्रिक कार नहीं सेल करना चाहती।
ई2o प्लस का उत्पादन सिर्फ घरेलू बाजार के लिए बंद किया गया है। नेपाल, भूटान, बांग्लादेश और श्री लंका के लिए इस कार का उत्पादन जारी रहेगा। महिंद्रा ने ई2o प्लस को साल 2013 में लॉन्च किया था। पर्सनल यूज के लिए भारत में अवेलेबल यह इकलौती कार है। शुरुआती दोर में यह कार सिर्फ टू डोर ऑप्शन के साथ आती थी। बाद फेसलिफ्ट वर्जन को 4 डोर के साथ लॉन्च किया गया। नए फेम 2 (फास्टर अडॉप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग ऑफ इलेक्ट्रिक वीइकल्स) के मुताबिक पर्सनल इलेक्ट्रिक वीइकल्स पर सब्सिडी नहीं मिलती है। कार की सेल पर भी इसका फर्क पड़ा है। महिंद्रा ई20 प्लस दो रेंज ऑप्शन में मिलती है। लीड एसिड बैटरी वाला वेरियंट 110 किमी और लीथियम आयन बैटरी वाला पी8 वेरियंट 140 किमी की रेंज ऑफर करता है। मौजूदा समय में कंपनी ई-ब्रेटो और ई-सुप्रो कमर्शियल वीइकल्स ऑफर करती है जिनका उत्पादन जारी रहेगा।