गाजियाबाद । गा‎जियाबाद में कोर्ट ने भाभी की हत्या के मामले में आरोपी देवर को उम्रकैद की सजा सुनाई है। साथ ही 20 हजार रुपये जुर्माना लगाया है। दरअसल, ‎जिले के लोनी में रहने वाले शमील की चाची शकीला उसे और उसकी पत्नी नसरीन को अपने बेटे राशिद से ज्यादा चाहती थी। इसको लेकर राशिद शमीम व उसकी पत्नी से रंजिश मानने लगा और राशिद ने 13 अप्रैल 2013 को शमीम की पत्नी नसरीन की छाती पर छूरी से वार कर दिया और फरार हो गया। इसके बाद नसरीन को गंभीर अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इसके बाद शमीम ने मामले की रिपोर्ट दर्ज कराते हुए राशिद को नामजद कराया। इसके बाद पुलिस ने रिपोर्ट के आधार पर राशिद को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया। इसके बाद मामले की अंतिम सुनवाई सोमवार को जिला जज दिनेश शर्मा की अदालत में हुई। कोर्ट ने सबूत व गवाहों के बयान के आधार पर राशिद को हत्या करने का दोषी पाया। इसके बाद उसे उम्रकैद व 20 हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई।