ग्वालियर. मध्‍य प्रदेश के ग्‍वालियर जिला अस्पताल (Gwalior District Hospital) के लैब टैक्नीशियन (Lab Technician) ने अपने घर की दीवार पर सुसाइड नोट लिखा और फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली. 22 साल के अंशुल पाल ने सुसाइड नोट (Suicide Note) में एक टाईपिस्ट पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाने के साथ ही अपनी प्रेमिका का जिक्र भी लिखा मिला है. इस सनसनीखेज मामले की सूचना मिलने के साथ ही जनकगंज पुलिस (Janakganj Police) जांच में जुट गई है.

फांसी लगाने से पहले दीवार लिखा सुसाइड नोट

ग्वालियर के जीवाजीगंज इलाके में रहने वाले 22 साल के अंशुल पाल नाम के युवा ने अपने घर में खुदकुशी कर ली. घटना वाले कमरे में दीवार पर अंशुल के हवाले से एक सुसाइड नोट लिखा मिला है, जिसमें लिखा है कि ग्वालियर हाईकोर्ट में कार्यरत टाइपिस्ट दीपक श्रीवास्तव उसे किसी केस में झूठा फंसाने की धमकी देता है, जिसके चलते उसे आत्महत्या करनी पड़ रही है. सुसाइड नोट में किसी युवती का भी जिक्र है जिससे वह प्यार करता था.

परिवार वाले बोले धमकियों से डर कर दी जान

खबर लगते ही जनकगंज पुलिस मौके पर पहुंची और मृतक अंशुल के शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया. पुलिस ने शिकायत दर्ज कर मामले की जांच शुरु कर दी है. पुलिस के मुताबिक अंशुल पाल शासकीय अस्पताल मुरार में लैब टेक्नीशियन के पद पर काम करता था. जबकि उसे पिता की जगह अनुकंपा नियुक्ति मिली थी. जांच अधिकारी सब इंस्पेक्टर सुरेश सिंह ने बताया कि दीवार पर लिखे सुसाइड नोट के आधार पर मामले की जांच की जाएगी. किसी लड़की से प्रेम करने का जिक्र लिखा है. साथ ही दीपक श्रीवास्तव पर धमकियां देने की बात भी लिखी है. हैंडराइटिंग का मिलान किया जाएगा. साथ ही लड़की और धमकी देने वाले से भी पूछताछ की जाएगी. जबकि अंशुल के जीजा नरेश पाल ने बताया कि दीपक श्रीवास्तव नाम का शख्स उसको (अंशुल) लगातार धमकियां दे रहा था. इसी के चलते खुदकुशी की है.