नई दिल्ली  | पिछले सप्ताह दिल्ली में जब वकीलों और पुलिसकर्मियों के बीच झड़प हुई, उस समय उन्नाव बलात्कार कांड के एक आरोपी और निष्कासित भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर तीस हजारी कोर्ट की हवालात में बंद थे। अधिकारियों ने इस संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि झड़प के समय विधायक कुलदीप सेंगर के अलावा तीस हजारी हवालात में लगभग 140 कैदी बंद थे। वहीं, एक वकील का कहना है कि सेंगर को शनिवार की सुबह तिहाड़ जेल से यहां लाया गया था और सुनवाई के लिए सुबह साढ़े दस बजे अदालत के समक्ष पेश किया गया है। सेंगर को जिला जज धर्मेश शर्मा की अदालत में पेश किया गया। अर्धसैनिक बल के पहुंचने के बाद उन्हें लगभग शाम सात बजे बाहर निकाला गया। उन्होंने कहा कि वह लगभग आठ बजे जेल परिसर में लौट आए। ड्यूटी पर तैनात एक पुलिसकर्मी और एक वकील के बीच पार्किंग विवाद के चलते शनिवार को दोनों पक्षों के बीच झड़प हुई, जिससे 20 सुरक्षाकर्मी और कई अधिवक्ता घायल हो गए।