नई दिल्ली दिल्ली कांग्रेस को जल्द ही नया अध्यक्ष मिल जाएगा। दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष और दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित के निधन से खाली हुए इस पद को भरने के लिए कांग्रेस हाईकमान काफी सक्रियता से विचार कर रहा है। कांग्रेस में शीला दीक्षित के उत्तराधिकारी की तलाश से जुड़ी इस कवायद में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी खुद दिलचस्पी ले रही हैं। जनवरी में होने वाले आगामी दिल्ली चुनाव को देखते हुए कांग्रेस हाईकमान काफी समय से खाली इस पद को अब बहुत जल्द भरने की तैयारी कर रहा है।

बताया जाता है कि प्रदेश अध्यक्ष को लेकर पिछले कुछ हफ्तों में सोनिया गांधी ने करीब 50 नेताओं से बातचीत और मशविरा किया है। इनमें प्रदेश के नेताओं से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक के नेता शामिल हैं। नए अध्यक्ष के तौर पर जो संभावित नाम चल रहे हैं, उनमें दिल्ली कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष जेपी अग्रवाल, अरविंदर सिंह लवली, अजय माकन से लेकर लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी से कांग्रेस में आए पूर्व क्रिकेटर व पूर्व सांसद कीर्ति आजाद से लेकर शीला दीक्षित के बेटे सांसद संदीप दीक्षित तक का नाम शामिल है। इसके अलावा, कांग्रेस के तीन कार्यकारी अध्यक्ष देवेंद्र यादव, लिलोठिया और हारून यूसुफ भी अध्यक्ष पद की दौड़ में शामिल बताए जा रहे हैं।

दिल्ली अध्यक्ष के लिए कीर्ति आजाद का नाम सबसे आगे
हालांकि इस दौड़ में कीर्ति आजाद का नाम सबसे आगे चल रहा है। इसके पीछे उनके पिता और सीनियर कांग्रेस नेता व बिहार के पूर्व सीएम भागवत झा आजाद के पूर्व पीएम राजीव गांधी से संबंध के अलावा प्रदेश में जारी गुटबाजी भी मानी जा रही है। पार्टी के भीतर एक राय है कि गुटबाजी को रोकने के लिए किसी नए को मौका दिया जाए।

कीर्ति आजाद से सोनिया गांधी ने की लंबी बातचीत
बताया जाता है कि पिछले दिनों सोनिया गांधी ने कीर्ति आजाद से फोन पर लंबी बातचीत की। चर्चा है कि दिल्ली के प्रभारी पीसी चाको ने हाल ही अपनी तरफ से संभावित दावेदारों की एक सूची सोनिया गांधी को सौंपी है। कहा जा रहा है कि इस बारे मे आखिरी फैसला सोनिया गांधी लेंगी।