बेंगलुरु । कर्नाटक की 15 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव का परिणाम कांग्रेस को तगड़ा झटका देने वाले रहे वह 15 में से केवल दो सीटों पर जीत दर्ज कर पाई। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने 12 सीटों पर जीत दर्ज की है। कांग्रेस के इस प्रदर्शन पर प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव और विपक्ष के नेता सिद्धारमैया ने अपना इस्तीफा दे दिया है। दोनों नेताओं ने केसी वेणुगोपाल से बात की। इसके बाद हार की जिम्मेदारी लेते हुए अपना इस्तीफा दे दिया। थोड़ी देर में सिद्धारमैया प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे। कर्नाटक की 15 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस का प्रदर्शन बेहद खराब रहा। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 12 सीटों पर जीत दर्ज की। कांग्रेस केवल दो सीटें हासिल करने में कामयाब रही है।
वहीं एक अन्य सीट पर निर्दलीय प्रत्याशी को जीत मिली है। उपचुनाव की खास बात यह है कि जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) का खाता नहीं खुला। इस परिणाम के साथ ही येदियुरप्पा सरकार को विधानसभा में पूर्व बहुमत मिल गया है। भाजपा ने अथानी, कागवाड़, गोकक, येल्लापुर, हीरेकेरुर, रानेबेन्नूर, विजयनगर, चिक्काबल्लापुर, केआर पुरा, यशवंतपुरा, महालक्ष्मी लेआउट, और कृष्णाराजापेटे सीट पर जीत दर्ज की। कांग्रेस के खाते में शिवाजीनगर और हुनासुरू की सीट गई। जबकि होसाकोटे से निर्दलीय प्रत्याशी शरथ कुमार बचचेगौड़ा ने जीत दर्ज की। अधिक सीटों पर अयोग्य करार दिए गए विधायकों ने बड़े अंतर के साथ जीत दर्ज की। उपचुनाव के नतीजों के बाद भाजपा को विधानसभा में पूर्ण बहुमत मिल गई है। 222 सदस्यीय विधानसभा में अब भाजपा के 117 विधायक हो गए हैं। कांग्रेस के पास 68 और जेडीएस के पास 34 विधायक हैं। तीन विधायक निर्दलीय हैं। बहुमत के लिए 112 विधायकों की जरूरत है। भाजपा के पास बहुमत से 5 विधायक ज्यादा हैं।