इस्लामाबाद

पाकिस्तान के द्वारा पिछले एक हफ्ते से बॉर्डर पर जारी गोलीबारी का जवाब भारतीय सेना ने दिया है. भारतीय सेना के जवानों द्वारा दिया गया ये जवाब इतना करारा था कि पाकिस्तान में अब हड़कंप मच गया है. भारत की जवाबी कार्रवाई में करीब आधा दर्जन पाकिस्तानी सेना के जवान मारे गए हैं, 3 आतंकी कैंप तबाह हुए हैं और आतंकी भी मारे गए हैं. इस बीच पाकिस्तान की ओर से इस सच को छुपाने की कोशिश की जा रही है, जिसमें पाकिस्तानी सेना और मीडिया भी शामिल है.

पाकिस्तान सेना ने भारत के दावों को किया खारिज

भारत की ओर से पाकिस्तान में तबाही मचा दी गई है, लगातार आतंकी कैंप पर निशाना और उन आतंकियों की आड़ बन रहे पाकिस्तानी सेना के जवानों को भी करारा जवाब देना. भारत की इस कार्रवाई को पाकिस्तान पचा नहीं पा रहा है, PAK सेना के प्रवक्ता आसिफ गफूर रविवार से ही भारत के खिलाफ ट्वीट कर रहे हैं.

आसिफ गफूर की ओर से लगातार दावा किया जा रहा है कि भारत जिन आतंकी कैंपों को तबाह करने की बात कर रहा है वह गलत है. उन्होंने लिखा है कि PoK में ऐसे कोई कैंप थे ही नहीं, इतना ही नहीं उन्होंने फिर विदेशी मीडिया को चेकिंग करने के लिए न्योता दिया है.

पाकिस्तानी सेना का साथ दे रहा मीडिया

पाकिस्तानी सेना लगातार भारत के खिलाफ झूठ फैलाने में लगी है तो वहां की मीडिया भी उसका साथ ही दे रही है. सेना प्रमुख बिपिन रावत ने बताया है कि भारत के एक्शन में 5-6 पाकिस्तानी सेना के जवान मारे गए हैं. लेकिन पाकिस्तान मीडिया इस सच को छुपा रहा है और लगातार दावा कर रहा है कि पाकिस्तान के एक्शन में भारत की काफी तबाही हो रही है. पाकिस्तानी मीडिया कई भारतीय जवानों के मारे जाने की बात कर रहा है, जो कि सरासर गलत है.

इतना ही नहीं पाकिस्तानी मीडिया की ओर से गलत तस्वीरें भी फैलाई जा रही हैं. 2014 में भारत में हुए नक्सल हमले की एक तस्वीर को पाकिस्तानी मीडिया रविवार की तस्वीर बता रहा है और कह रहा है कि पाकिस्तानी सेना के एक्शन में कई भारतीय जवान मारे गए हैं. हालांकि, पाकिस्तान के इन दावों का सोशल मीडिया ने ही भांडा फोड़ दिया था.    

गौरतलब है कि इसी तरह की हरकत पाकिस्तान पहले भी कर चुका है, फिर चाहे वह सर्जिकल स्ट्राइक की बात हो या फिर एयरस्ट्राइक के समय की बात हो. हर बार पाकिस्तान ने सच मानने से इनकार किया है और दुनिया को अपना ही अलग प्रोपेगेंडा बेचा है.