महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में एक विशेष पीएमएलए कोर्ट ने बुधवार को गैंगस्टर इकबाल मिर्ची के सहयोगी की हिरासत 5 दिनों के लिए बढ़ा दी है. इकबाल मिर्ची के सहयोगी रंजीत बिंद्रा, कांग्रेस नेता बाबा सिद्दिकी के रिश्तेदार हैं.
    2,000 करोड़ की संपत्ति का टेरर फंडिंग के लिए हुआ इस्तेमालपीएमएलए कोर्ट ने बढ़ाई रंजीत बिंद्रा की ईडी हिरासत

महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में एक विशेष पीएमएलए कोर्ट ने बुधवार को गैंगस्टर इकबाल मिर्ची के सहयोगी की हिरासत 5 दिनों के लिए बढ़ा दी है. इकबाल मिर्ची के सहयोगी रंजीत बिंद्रा, कांग्रेस नेता बाबा सिद्दिकी का रिश्तेदार है. शुक्रवार को प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों ने रंजीत बिंद्रा को हिरासत में लिया था. आरोप है कि रंजीत बिंद्रा भूमि सौदे में बिचौलिए का काम किया था. इकबाल मिर्ची की साल 2013 में मौत हो गई थी.

प्रवर्तन निदेशालय ने कोर्ट में कहा कि वर्ली की संपत्तियां इकबाल मिर्ची की हैं, अनुमान है कि इनका मूल्य 2000 करोड़ रुपए का हो सकता है, जिसका इस्तेमाल आतंकी फंडिंग के लिए किया गया है. शुरुआती डील 225 करोड़ की थी जिसमें सनब्लिंक डेवलेपर्स और जॉय कंस्ट्रक्शन के साथ इकबाल मिर्ची का नाम शामिल है. इस मामले में बिंद्रा और हारून युसुफ ने इकबाल मिर्ची के सहयोगी की तरह खुद को पेश किया है.

2000 करोड़ का लोन

प्रवर्तन निदेशालय ने 11 अक्टूबर को दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया था जिन्होंने हजारों करोड़ रुपये की तीन प्रमुख संपत्तियों को हासिल करने में इकबाल मिर्ची की मदद की थी.  ईडी के अधिकारियों ने अपनी जांच में पाया कि मुंबई के वर्ली इलाके में एक 15-मंजिला व्यावसायिक और आवासीय भवन है , जिसमें चौदह हजार वर्ग फुट के डुप्लेक्स का स्वामित्व मिर्ची के पास था. सीजे हाउस नाम की इमारत को पटेल की फर्म मिलेनियम डेवलपर्स ने विकसित किया था.
इन संपत्तियों पर 2000 करोड़ रुपये का लोन लिया गया, आशंका है कि इन संपत्तियों का इस्तेमाल आतंकी फंडिंग के लिए की गई है. रंजीत बिंद्रा और युसुफ हारून ने इकबाल मिर्ची ने कई अवसरों पर लंदन में मुलाकात की थी. रिकॉर्डिंग के दौरान दोनों ने इसे स्वीकार किया है. दोनों ने अपने बयान की रिकॉर्डिंग के दौरान कबूल किया है. कुछ संदिग्धों के नाम सामने आए हैं और उन्हें भी पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा.

ED के सामने नहीं पेश हुआ परिवार

पीएमएलए कोर्ट ने रंजीत बिंद्रा को पांच दिन की पुलिस हिरासत और हरफन यूसुफ को न्यायिक हिरासत देने का आदेश दिया जो यूसुफ ट्रस्ट के अध्यक्ष थे. प्रवर्तन निदेशालय ने इकबाल मिर्ची की पत्नी हाजरा और दो बेटों आसिफ और जुनैद को तलब किया है, लेकिन वे आज तक एजेंसी के सामने पेश नहीं हुए हैं . सूत्रों ने कहा, मिर्ची की पत्नी हजारा मेमन देश में नहीं है और यूएई में स्थित है.

कौन था इकबाल मिर्ची?

मेमन इकबाल उर्फ इकबाल मिर्ची दर्जनों मामलों में वांछित था, जिसमें हत्या, हत्या का प्रयास, उगाही, ड्रग तस्करी शामिल हैं. हालांकि वह 1993 मुंबई सीरियल बम विस्फोट में आरोपी नहीं था. इंटरपोल द्वारा 1994 में रेड कार्नर नोटिस जारी हुआ था. बम विस्फोट के बाद वह दुबई शिफ्ट हो गया और उसके बाद उसने लंदन को अपना अड्डा बना लिया. साल 2013 में उसका निधन हो गया.