इंदौर. मानव तस्करी मामले (Human trafficking case) में फरार माफिया जीतू सोनी (Jitu Soni) के बेटे अमित सोनी (Amit Soni) को आज कोर्ट पेश किया गया. इस दौरान कोर्ट में पलासिया पुलिस (Palasia police) ने सात दिन की रिमांड मांगी और दोनों पक्षों के वकीलों के बीच बहस के बाद मजिस्ट्रेट ने तीन दिन यानी 9 दिसंबर तक रिमांड स्वीकृत कर दी है. हालांकि अमित के वकील ने मजिस्ट्रेट के सामने प्रतिदिन थाने में उससे (अमित) मुलाकात के लिए लिखित में आवदेन दिया, जिसे कोर्ट ने स्‍वीकार कर लिया है. जबकि कोर्ट रूम से आते वक़्त अमित ने मीडिया से कहा कि उन्हें और उनके परिवार को फंसाया जा रहा है.

यूं हुआ मानव तस्‍करी का खुलासा

बीते दिनों डांस बार में छापे के बाद पलासिया पुलिस ने मानव तस्करी की धारा में जीतू सोनी और उनके बेटे अमित सोनी के खिलाफ प्रकरण का दर्ज किया था. जीतू सोनी फिलहाल फरार है, लेकिन अमित को पलासिया पुलिस ने रविवार को घर से ही गिरफ्तार कर लिया था. पलासिया पुलिस ने पूर्व में ही अमित की चार दिन की रिमांड ले चुकी है. जबकि शुक्रवार शाम फिर पुलिस ने आरोपी अमित सोनी को कोर्ट में पेश कर सात दिन का रिमांड मांगी जो कि उसे मिल गई है. इस दौरान पुलिस ने कोर्ट में दलील दी कि आरोपियों से जुड़े बाहरी राज्य के लोगों के बारे में जानकारी जुटानी है. हालांकि इसका अमित सोनी के वकील ने विरोध भी किया, लेकिन दोनों पक्षों के बीच हुई बहस के बाद न्यायालय ने अमित सोनी को तीन दिन की पुलिस रिमांड पर भेजने के आदेश दे दिए.


जीतू सोनी पर घोषित हुआ इनाम

गौरतलब है कि अमित सोनी पर अब तक चार प्रकरण दर्ज किये जा चुके हैं. इसके अलावा उसके पिता जीतू सोनी और भाई लक्की व विक्की पर भी कई गंभीर प्रकरण दर्ज हैं. पुलिस ने जीतू सोनी पर फिलहाल 30 हजार का इनाम घोषित है और पुलिस ने उस पर एक लाख का इनाम घोषित करने के लिए मुख्यालय पत्र भेजा गया है. साथ ही लक्की और विक्की पर भी 10 हजार का इनाम घोषित है. यही नहीं, जीतू सोनी के खिलाफ एफआईआर की फेहरिस्त में भी लगातार इजाफा हो रहा है. पुलिस अब तक सोनी के खिलाफ 24 एफआईआर दर्ज कर चुकी है. वहीं पुलिस ने जीतू सोनी की मध्य प्रदेश के बाहर महाराष्ट्र और गुजरात की संपत्ति पर भी कार्रवाई का मन बना लिया है.

युवतियों ने कही ये बात
साथ ही रेस्क्यू की गई 67 युवतियों में से ज्यादातर ने शारीरिक शोषण की बात भी महिला अबल विकास और पुलिस अधिकारियों के सामने स्वीकारी है. पुलिस अधिकारियों के मुताबिक जीतू सोनी के पास मिली रजिस्ट्रियों की जांच के लिए अलग से हेल्प डेस्क बनाया है, लिहाजा शिकायतकर्ता सीधे इन हेल्प डेस्क पर जाकर अपनी शिकायतें को दर्ज करा सकते हैं. जीतू सोनी की तलाश में पुलिस जगह जगह छापेमार कार्रवाई कर रही है, लेकिन इसी दौरान जीतू सोनी सांठगांठ कर मुंबई में सरेंडर करने की खबर भी निकलकर सामने आ रही है. हालांकि पुलिस ने इस खबर को सिरे से नकार दिया है.

एसएसपी ने कही ये बात

एसएसपी रूचिवर्धन मिश्र के मुताबिक फरार आरोपी जीतू सोनी को गिरफ्तार करने का प्रयास किया जा रहा है. जबकि उन पर घोषित इनाम की राशि तीस हजार से बढ़कर एक लाख करने के लिए मुख्यालय पात्र भेजा गया है.