इंडियन प्रीमियर लीग के 14वें सीजन के पहले क्वालीफायर में चेन्नई सुपर किंग्स ने दिल्ली कैपिटल्स को हराकर फाइनल में जगह पक्की की। इस मैच में चेन्नई के कप्तान धौनी ने आखिरी ओवर में टाम कुर्रन को चौके जमाते हुए टीम को जीत दिलाई। महज 6 गेंद पर इस धुरंधर ने 18 रन बनाए जिसमें तीन चौके और एक छक्का शामिल था। इस हार के बाद दिल्ली के मुख्य कोच रिकी पोंटिंग धौनी की तारीफ की और उनको महानतम फिनिशर बताया।

"जी, आप धौनी की तरफ देखिए तो वो महान खिलाड़ियों में से एक हैं। इस मैच में आज रात ऐसी परिस्थिति पैदा हो गई थी जहां हम डग आउट में बैठकर सोच रहे थे कि क्या जडेजा बल्लेबाजी करने आएंगे या फिर धौनी इसके बाद बल्लेबाजी करने उतरेंगे और फिर मैंने अपना हाथ उपर उठाया और सीधा इस बात पर शर्त लगाया कि धौनी ही बल्लेबाजी करने आने वाले हैं। वो इस मैच को अपने हिसाब से ही एकदम से ठंडे तरीके से निपटा देंगे।"

इस मैच में चेन्नई के कप्तान धौनी ने सिर्फ 6 गेंद का ही सामना किया लेकिन इन छह गेंदों पर उन्होंने 18 रन बनाते हुए मैच का रुख पलट दिया। इस छोटी सी पारी में उनके बल्ले से 3 चौके और 1 छक्का निकला जिसने मैच से दिल्ली को दूर कर दिया। जीत के लिए चेन्नई को आखिरी ओवर में 13 रन की जरूरत थी और तीन चौका लगाते हुए इसे अपने नाम कर लिया। टाम कुर्रन की दूसरी और तीसरी गेंद पर धौनी ने जोरदार चौका लगाया जबकि इसके बाद एक वाइड हुआ। अगली गेंद पर चौका जड़ मैच को खत्म कर दिया।

"देखिए मुझे ऐसा लगता है कि जब वह अपना काम पूरी तरह से खत्म कर लेंगे और क्रिकेट के हर तरह से फार्मेट से संन्यास ले लेंगे तो मेरे ख्याल से उनको दुनिया के सबसे महान मैच फिनिशर के तौर पर ही याद किया जाएगा। ऐसा फिनिशर जिसको शायद ही इससे पहले किसी ने देखा हो।"

"मुझे ऐसा लगता है कि हमने आखिर के ओवरों में उस तरह से अपनी गेंदबाजी नहीं की जैसे कि धौनी के खिलाफ की जानी थी। आप तो इस बात को अच्छे से जानते हैं कि अगर तो आपने अपनी योजना में उनके खिलाफ गलती कर दी तो फिर इसकी कीमत चुकानी पड़ती है। ऐसा तो लंबे समय से ही करते रहे हैं।"