लखनऊ. बॉलीवुड सिंगर कनिका कपूर (Kanika Kapoor) को रविवार सुबह SGPGI अस्पताल से छुट्टी मिल गई. इसी क्रम में लखनऊ के पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडे ने बताया कि 14 दिनों का क्‍वारेंटाइन खत्म होने के बाद कनिका कपूर से लखनऊ पुलिस पूछताछ करेगी. उन्होंने बताया कि कनिका के खिलाफ लखनऊ के थाना सरोजिनी नगर में आईपीसी की धारा- 188, 269 और 270 के तहत एफआईआर दर्ज है. ऐसे में पुलिस की टीम उनसे पूछताछ करेगी.

जानकारी के मुताबिक, लखनऊ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी की शिकायत पर सरोजनी नगर थाने में कनिका पर आईपीसी की धारा 188, 269 और 270 के तहत केस दर्ज हुआ था. दो अन्य एफआईआर हजरतगंज और महानगर थाने में हुईं थी. इनमें कनिका पर सरकार के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करने और जानबूझकर लोगों की जान खतरे में डालने का आरोप है.

बता दें कि कनिका कपूर 9 मार्च को लंदन (London) से वापस आईं थीं, जिसके बाद 20 मार्च को उन्होंने खुद के कोरोना पॉजिटिव होने की बात सार्वजनिक की थी. इसके बाद उनपर खुद के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर छुपाने और लापरवाही बरतने के आरोप लगने लगे थे. हालांकि, सिंगर का कहना है कि जब वह भारत वापस आईं थीं, तो देश में सेल्फ आईसोलेशन जैसी कोई व्यवस्था लागू नहीं की गई थी, बल्कि 10 मार्च को लोग होली खेल रहे थे. इसके बाद लगातार चार कोरोना टेस्ट में वो संक्रमण से पॉजिटिव पाई गई थीं.

उल्लेखनीय है कि कनिका कपूर संग एक होली पार्टी में मौजूद रहने के चलते राजस्‍थान की पूर्व सीएम वसुंधराजे सिंधिया और उनके बेटे दुष्यंत सिंह ने भी खुद को सेल्फ आइसोलेशन में रखा हुआ है. बात दें कि बॉलीवुड सिंगर कनिका कपूर के कई हाईप्रोफाइल लोगों के संपर्क में आने की बात कही गई थी. इसके बाद खलबली सी मच गई थी. आनन-फानन में उन्‍हें अस्‍पताल में भर्ती करवाया गया था.