नई दिल्ली कोरोना वायरस ने भारत समेत पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है. विश्वभर में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या तीन लाख से ज्यादा हो चुकी है, जिनमें से 14 हजार 336 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. देश में अब तक कोरोना वायरस के 390 से ज्यादा मामले पॉजिटिव पाए गए हैं, जिनमें से 7 लोगों की मौत हो चुकी है.

कोरोना वायरस के बढ़े खतरे को देखते हुए भारत में कड़े कदम उठाए गए हैं. इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर रविवार को पूरे देश में लोगों ने जनता कर्फ्यू का पालन किया. इस दौरान सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा और बाजार बंद रही. इसके बाद रविवार शाम पांच बजे लोग अपने घरों के दरवाजे और बालकनी में खड़े होकर ताली, थाली और शंख बजाकर कोरोना कमांडोज को सलाम किया.

कोरोना कमांडोज को सलाम करने के लिए कांग्रेस पार्टी ने देश की जनता का शुक्रिया किया है. साथ ही मोदी सरकार के सामने कई मांगों को रखा. रविवार को कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, 'आज शाम 5 बजे थाली बजाकर कोरोना वायरस से लड़ रहे देश के हेल्थ कर्मियों का धन्यवाद करने के लिए देशवासियों को दिल से साधुवाद.'

 
1. सभी हेल्थ कर्मियों की सुरक्षा के लिए उन्हें पर्सनल प्रोटेक्शन ईक्विपमेंट्स जैसे- N95 मास्क, ग्लव, फेस शील्ड, गॉगल्स, हैंड कवर्स, रबर बूट्स, डिस्पोज़ेबल गाउंस दे, ताकि वो स्वयं वायरस के संक्रमण से बच सकें.


2. हमें अपने डॉक्टर्स, नर्स और सपोर्टिंग स्टाफ पर गर्व है व इस मुश्किल समय में कोरोना वायरस से लड़ते हुए जान जोखिम में डालने पर उन्हें विशेष फाइनेंशल लाभ दिया जाना चाहिए. सरकार फौरन इसकी घोषणा करे.

3. कोरोना वायरस के मरीज़ों के लिए वेंटिलेटर का इंतज़ाम करे, क्योंकि अभी 130 करोड़ की आबादी के लिए केवल 30 हजार वेंटिलेटर हैं. लगभग 95 फीसदी वेंटिलेटर पहले से ही और बीमारियों से ग्रस्त मरीज़ों के इस्तेमाल में हैं.

4. कोरोना वायरस के मरीज़ों के लिए आइसोलेशन बेड का इंतज़ाम करे, ताकि इलाज भी हो और संक्रमण भी न फैले, क्योंकि अब तक हर 84 हजार देशवासियों पर केवल एक आइसोलेशन बेड उपलब्ध है, जो नाकामी है.

5. कोरोना वायरस की जांच संख्या कई गुना बढ़ाए, क्योंकि 130 करोड़ नागरिकों के इस देश में आज तक केवल 16 हजार 109 मामलों में ही सैंपलों की जांच की गई है. साथ ही कोरोना संक्रमित लोगों को निगरानी में रखे और उनके संपर्क में आए सभी लोगों की जांच होनी चाहिए.


6. पूरे देश में जो हैंड सैनिटाईज़र्स, फेस मास्क और लिक्विड सोप की कालाबाजारी धड़ल्ले से हो रही है, उन पर कड़ी कार्रवाई हो. आपदा के समय सब्जियों, दाल, आलू, प्याज़ आदि के रोज रेट बढ़ाने वालों पर कार्रवाई हो.
 
7. दैनिक मजदूरी करने वाले लाखों लोगों, मनरेगा मज़दूरों, एडहॉक-अस्थायी कर्मचारियों, श्रमिकों, किसानों और असंगठित क्षेत्र में काम करने वालों का रोज़गार चला गया है. संकट की इस घड़ी में सरकार उन्हें नकद आर्थिक मदद दे.

8. कोरोना के चलते सर्वाधिक रोज़गार देने वाले क्षेत्र यानी कृषि क्षेत्र पर भी भारी मार पड़ी है. बेमौसम की बारिश और ओलावृष्टि ने खेती पर संकट पैदा कर दिया. सरकार को कृषि क्षेत्र के लिए विशेष राहत पैकेज देना चाहिए.

9. दुकानदार, व्यवसायी खासकर MSME को कोरोना वायरस की वजह से भारी नुक़सान हुआ है. इनको सरकार को विशेष राहत पैकेज देना चाहिए और उन्हें आवश्यक टैक्स ब्रेक, ब्याज माफी व देनदारियों पर छूट देनी चाहिए.
 

10. कोरोना वायरस के चलते मध्यमवर्गीय लोग और वेतनभोगी वर्ग गंभीर समस्या से जूझ रहे हैं. मासिक EMI अधिकतर सुविधाओं का रास्ता है. ऐसे में सरकार को ईएमआई स्थगित करनी चाहिए.