कृषि कानूनों के खिलाफ 500 ट्रैक्टर से रैली, शहर में लगा एक किलोमीटर लंबा जाम

उज्जैन में रैली निकाली जा रही है। ट्रैक्टर पर पूर्व मंत्री सज्जनविंह वर्मा भी शामिल हैं
 

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ और किसान आंदोलन को मध्यप्रदेश में धार देने के लिए कांग्रेस सोमवार को उज्जैन में किसान रैली निकाली जा रही है। इसमें करीब 500 ट्रैक्टरों पर सवार होकर जिलेभर करीब दो हजार से ज्यादा किसान आए हैं। जिला पुलिस बल के साथ एसएएफ के जवान तैनात किए गए हैं। पुलिस ड्रोन से रैली की निगरानी कर रही है।

दोपहर करीब 1 बजे कृषि उपज मंडी चिमनगंज से रैली शुरू हुई। रैली कोयला फाटक, चामुंडामाता मंदिर और टॉवर चौक से होते हुए कलेक्टर कार्यालय पहुंचेगी। रैली में कांग्रेस चारों विधायक अपने-अपने क्षेत्रों से ट्रैक्टरों पर सवार होकर किसानों रैली में शामिल हुए हैं। रैली के कारण कारण शहर में एक किलोमीटर तक जाम की स्थिति बन गई है। कई जगह ट्रैफिक पुलिस ने यातायात को डायवर्ट भी किया है।

कांग्रेस प्रवक्ता विवेक सोनी ने बताया कि रैली में पूर्व मंत्री सज्जनसिंह वर्मा, प्रदेश युवक कांग्रेस अध्यक्ष विक्रांत भूरिया और पूर्व मंत्री सचिन यादव भी शामिल हैं। रैली के कारण शहर के एक किलोमीटर इलाके में जाम की स्थिति बन गई है।

कमलनाथ सरकार के गिरने और उपचुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस को ताकत दिखाने का यह पहला मौका मिला है, इसलिए विधायक महेश परमार, दिलीप गुर्जर, मुरली मोरवाल, रामलाल मालवीय समेत कांग्रेस संगठन ने रैली में ज्यादा से ज्यादा किसानों को लाने के लिए पूरी ताकत झोंक दी है।

प्रशासन का दबाव

कांग्रेस की रैली को लेकर जिला प्रशासन भी चौकन्ना है। प्रशासन का दबाव है कि रैली में आने वाले किसानों को संबोधित करने के लिए कोठी स्थित कलेक्टर कार्यालय के सामने मंच नहीं बनाया जाए। प्रशासन यह भी नहीं चाहता है, ज्यादा ट्रैक्टर कोठी पर पहुंचे। बस एक-दो ट्रैक्टर पर ही किसान आएं और कांग्रेस नेता मंच के बजाए ट्रैक्टर पर ही खड़े होकर उन्हें संबोधित करें।