जशपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में नगरीय निकाय चुनाव (Urban body elections) में नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया समाप्त हो चुकी है. अब प्रत्याशियों के नामों की अंतिम सूची प्रकाशित होनी है. बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) से टिकट की उम्मीद लगाए दावेदारों की टिकट कटने से नाराजगी साफ जाहिर हो रही है. कई दावेदार पार्टी के खिलाफ ही मोर्चा खोलते हुए निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में मैदान में उतर गए हैं. इतना ही नहीं टिकट कटने से नाराज दावेदार खुलकर अपना आक्रोश भी आला नेताओं को दिखा रहे हैं. ऐसा ही एक मामला जशपुर (Jashpur) में देखने को मिला.

प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) बीते 7 दिसंबर को जशपुर (Jashpur) दौरे पर थे. इसी दौरान सीएम भूपेश बघेल से ही कांग्रेस (Congress) नेत्री ने सबके सामने सवाल कर दिया कि उनका टिकट क्यों काटा गया. कांग्रेस नेत्री उर्मिला भगत जशपुर नगर पालिका (Jashpur Municipality) के वार्ड क्रमांक 08 से पार्षद थीं. इस बार भी वो टिकट की दावेदार थीं, लेकिन उनका टिकट काटकर किसी अन्य को टिकट दे दिया गया, जिससे नाराज होकर उर्मिला भगत ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से शिकायत करते हुए कहा कि विषम परिस्थितियों में भी कांग्रेस के साथ खड़ी थी, लेकिन आज उनका टिकट क्यों काटा गया.

सीएम ने दिया ये जवाब


महिला नेत्री ने अब निर्दलीय नामांकन भर दिया है. उर्मिला भगत ने जशपुर विधायक विनय भगत पर टिकट काटने का आरोप लगाया है. वहीं सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि टिकट कटने से कार्यकर्ता तो नाराज होते ही हैं. मिल बैठकर मामले को सुलझा लिया जाएगा. बहरहाल नगरीय निकाय चुनाव में टिकट वितरण के बाद कांग्रेस में मचे इस घमासान का असर चुनाव परिणाम पर क्या पड़ता है, ये 24 दिसंबर को ही पता चलेगा. बता दें कि नगरीय निकाय चुनाव में 21 दिसंबर को वोटिंग और 24 दिसंबर को परिणाम घोषित किए जाएंगे.