भोपाल  मुख्यमंत्री कमलनाथ एक बार फिर दिल्ली दौरे पर जा रहे हैं| मुख्यमंत्री कमलनाथ का 4 दिन का दिल्ली दौरा है|  इस दौरान उनकी केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात होनी है| इसके साथ ही कांग्रेस के बड़े नेताओं से भी सीएम चर्चा कर सकते हैं| इस दौरे को काफी अहम माना जा रहा है | सूत्रों के मुताबिक 18 नवंबर को  कमलनाथ का जन्मदिन है वे दिल्ली में ही अपना जन्मदिन मनाएंगे 19 नवंबर को मध्यप्रदेश वापस लौटेंगे|

कमलनाथ के दिल्ली दौरे को लेकर एक बार फिर कई अटकलें शुरू हो गई हैं|  लम्बे समय से कैबिनेट में फेरबदल और पीसीसी चीफ को लेकर अटकलें लगाई जा रही है| वहीं कांग्रेस सूत्रों का भी कहना है कि प्रदेश अध्यक्ष को लेकर फैसला नवंबर में हो सकता है|  सीएम कमलनाथ इस सुगबुगाहट के बीच दिल्ली दौरे पर जा रहे हैं| संभावना है कि कैबिनेट में फेरबदल के साथ ही मंत्रियों के विभागों में भी परिवर्तन किया जा सकता है, इसके लिए अब तक के काम-काज को देखकर फैसला लिया जा सकता है| वहीं पीसीसी चीफ को लेकर भी जल्द ही फैसला हो सकता है|  इसके अलावा राजनीतिक नियुक्तिओं को लेकर  भी चर्चा हो सकती है|

पीसीसी चीफ को लेकर बन सकती है सहमति  

दिल्ली दौरे पर मुख्यमंत्री कमलनाथ मध्य प्रदेश के दिल्ली में अटके मामलों को लेकर केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात कर सकते हैं|  प्रदेश सरकार लगातार केंद्र सरकार से राशि के लिए मांग कर रही है, हालांकि पहले भी कई बार मुलाकात हो चुकी है पत्र लिखे जा चुके हैं लेकिन अब तक कोई सकारात्मक पहल नहीं हुई है| इसके अलावा सीएम कमलनाथ कांग्रेस हाई कमान से मिलकर प्रदेश के राजनीतिक हालातों पर चर्चा कर सकते हैं| सूत्रों के मुताबिक पीसीसी चीफ को लेकर चल रही कवायद भी अंतिम मोड़ पर है|   जल्द ही इसको लेकर घोषणा की जा सकती है| सीएम के दुबई दौरे से पहले भी दिल्ली में इस बात की चर्चा तेज थी, लेकिन फैसला एक बार फिर टल गया| अब देखना होगा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष का फैसला कब होगा और किसे कमान दी जायेगी |

निगम मंडलों में जगह पाने दावेदारों की लम्बी फेहरिस्त

निगम मंडलों में नियुक्ति की कवायद तेज हो गई है| वहीं निगम मंडलों में जगह पाने के लिए दावेदारों की लंबी फेहरिस्त है| कांग्रेस इसको लेकर दावेदारों की छानबीन करा रही | टिकट की तरह सर्वे के बाद निगम मंडल की कुर्सी दी जायेगी| सरकारी संस्थानों में पद का आधार,15 साल का संघर्ष और पार्टी में योगदान, क्षेत्र में छवि, कार्यकर्ताओं में स्वीकार्यता, जनता में लोकप्रियता को माना जाएगा| निगम मण्डल के दावेदार 3 जगह अपना बायोडाटा जमा कर रहे है| सीधे सीएम के पास, प्रदेश प्रभारी के यहां पीसीसी को अभी तक 400 से ज्यादा बायोडाटा मिल चुके है|