नई दिल्ली: चंद्रयान-2 चंद्रमा के और करीब पहुंच गया है. चंद्रयान-2 शुक्रवार (30 अगस्त) को शाम 6 बजकर 18 मिनट पर चंद्रमा की चौथी कक्षा में सफलतापूर्ण प्रवेश कर गया. चंद्रयान-2 चंद्रमा के दक्षिण ध्रुव पर 7 सितंबर को सॉफ्ट लैंडिंग को लेकर कई जटिल प्रक्रियाओं से गुजरेगा. बेंगलुरु में सात सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ प्रत्येक राज्य के दो बच्चे चंद्रयान-2 को चांद की सतह पर उतरते देखेंगे. 

जानकारी के मुताबिक, अब एक सितंबर को चंद्रयान चंद्रमा की अगली कक्षा में प्रवेश करेगा और दो सितंबर को लैंडर विक्रम कॉम्पजिट बॉडी से अलग हो जाएगा. इसके बाद 7 सितंबर की देर रात करीब 1 बजकर 55 मिनट पर चांद पर उतरेगा. पीएम मोदी बेंगलुरु में  चंद्रयान-2 को चांद की सतह पर उतरते देखेंगे. उनके साथ कई छात्रों को भी इस ऐतिहासिक नजारे को देखेने का मौका मिलेगा.

इन छात्रों का चयन ऑनलाइन क्विज कार्यक्रम को जीतने के बाद किया गया है. प्रत्येक राज्य के दो छात्रों को ऑनलाइन क्विज के आधार पर आयोजन के लिए चुना जा रहा है.

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल की 10वीं की छात्रा राशि वर्मा, चंद्रमा की सतह पर चंद्रयान-2 को प्रधानमंत्री के साथ उतरते देखने के लिए चुनी गई है. वहीं, झारखंड के दो विद्यार्धी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ चंद्रयान-2 को लाइव उतरता देखेंगे. इनमे डीपीएस रांची के 10वीं के छात्र प्रणव पराशर और संत थॉमस स्कूल की छात्रा (नौवीं कक्षा) मृदुला कुमारी है.

आपको बता दें भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने 22 जुलाई को चांद के शोध के लिए चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण किया है. चंद्रयान-2 अंतरिक्ष यान को 'बाहुबली रॉकेट' कहे जाने वाले जीएसएलवी मार्क 3/एम1 रॉकेट से लॉन्‍च किया गया है.