इन्दौर । इन्दौर ज़िले के व्यासखेड़ी गाँव में आज लोक निर्माण विभाग के मंत्री श्री सज्जन सिंह वर्मा, क्षेत्रीय विधायक और स्वास्थ्य मंत्री श्री तुलसी सिलावट तथा इंदौर के सांसद श्री शंकर लालवानी ने शिप्रा नदी पर बने पुल का लोकार्पण किया। ,मंत्री श्री सिलावट ने इस अवसर पर कहा कि यह पुल दो ज़िलों को जोड़ने वाला पुल है। देवास और इंदौर ज़िले के ग्रामीणों को इस पुल के बन जाने से सहुलियत मिलेगी। पहले व्यास खेड़ी और आस-पास के गांवों को बारिश के दिनों में 10 किलोमीटर और स्टाप डेम के रपटे से होकर दूसरी ओर जाना पड़ता था। वही रपटे के डूबने पर चालीस किलोमीटर का फेर भी लगता था। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में सन 2018 में एक वचन और एक संकल्प के साथ हमारी सरकार सत्ता में आयी है। यह वचन अन्नदाता को कर्ज़ के बोझ से बाहर निकालने का है। जिसे सरकार शब्दशः पूरा करेगी। अब वह समय आ गया है जब द्वितीय चरण में एक लाख रुपये तक के कर्ज़ वाले किसानों को कर्ज़ माफ़ी का कार्य प्रारंभ किया जा रहा है। लोक निर्माण विभाग के मंत्री श्री सज्जनसिंह वर्मा ने आज के दिन को महत्वपूर्ण दिन बताते हुए कहा कि बरसों पहले वे भागवत कथा में शामिल होने व्यास खेड़ी गाँव आए थे। तब व्यास पीठ पर ही उन्होंने इस पुल के लिए वचन दिया था,जिसे आज पूरा होते देखकर उन्हें हार्दिक प्रसन्नता है। मंत्री श्री वर्मा ने विभागीय अधिकारियों की इस बात के लिए सराहना की कि उन्होंने निर्धारित स्वीकृति से कम लागत में यह पुल बना लिया है। उन्होंने पुनर्निर्माण से बची राशि से ग्रामीणों की माँग पर क्षिप्रा नदी में घाट बनाए जाने की घोषणा की। कार्यक्रम में एसडीएम श्री रवीश श्रीवास्तव, श्री हुकुम सांखला, श्री मनोज राजानी सहित विभिन्न जनप्रतिनिधि उपस्थित थे ।
मुख्य अभीयंता लोकनिर्माण श्री डी.के.तिवारी ने बताया कि व्यासखेड़ी पुल का ‍निर्माण कार्य 10 फरवरी 2017 को शुरू हुआ और 31 मई 2019 को यह पुल पूर्ण रूप से तैयार हो चुका है। इस पुल की लंबाई 75मी. और चौड़ाई 8.4मी है। इस पुल के एक ओर इंदौर जिले में ग्राम व्यासखेड़ी एवं अन्य कई ग्राम एवं दूसरी और देवास जिले के ग्राम टिगरिया एवं अन्य कई ग्राम स्थित है। पुल नहीं होने से इन दोनों ग्राम के ग्रामवासियों को वर्ष भर नदी के तल से आना जाना करना पड़ता था। इस नदी पर पुल नहीं होने से कृषि उवज एवं अन्य आवश्यक कार्य हेतु दूसरी ओर ग्राम टिगरिया की ओर जाने के लिए इस स्थान से नदी के डाउन स्ट्रीम पर कम ऊंचाई वाले स्टाप डैम से 10 किमी. जाना आना कुल 20 किमी. घूमकर आते जाते थे इस स्थान पर पुल निर्माण हो जाने से यातायात की समस्या सुलभ हो गई है। पुल निर्माण हो जाने से ग्राम टिगरिया की ओर से ग्रामों का व्यासखेड़ी से होते हुए 30 किमी की दूरी में ही इंदौर महानगर से सीधा संपर्क हो गया है।