इंदौर (मध्य प्रदेश). अक्सर हादसे तेज रफ्तार और जरा सी जल्दबाजी के चलते होते हैं। इसी गलती के कारण वह दुनिया को ही छोड़कर चले जाते हैं। ऐसा ही एक दिल दहला देने वाले हादसे की खबर इंदौर से सामने आई है। जहां बचपन के 6 दोस्तों की एक साथ दर्दनाक मौत हो गई। कार और टैंकर का एक्सीडेंट इतना खतरनाक था कि किसी का हाथ कट गया तो किसी का सिर कटकर शरीर से लटक गया। यह भयानक मंजर देख लोगों को रोंगटे खड़े हो गए। बताया जाता है कि सभी दोस्त पार्टी करके देवास अपने घर लौट रहे थे, लेकिन घर पहुंचने से पहले ही वह दुनिया को अलविदा कह गए।यह भीषण एक्सीडेंट सोमवार देर रात इंदौर के लसुड़िया थाना क्षेत्र में तलावली चांदा पेट्रोल के पास हुआ। जहां तेज रफ्तार में आ रही कार सड़क किनारे खड़े टैंकर में जा घुसी। हादसा इतना भयानक था कि कार के परखच्चे उड़ गए और उसमें बैठे 6 दोस्तों में से 4 की मौके पर मौत हो गई। जिसमें चारों के शरीर के कई टुकड़े हो गए। वहीं दो और दोस्तों ने भी कुछ देर बाद दम तोड़ दिया।
जिस किसी ने भी हादसा का यह भयानक मंजर देखा तो उसका दिल दहल गया। अंदर से कार खून से लाल हो गई और वहीं दो लड़के बोनट पर आकर लटक गए। छह में से चार युवकों के सिर, हाथ और धड़ तक अलग हो गए थे। मामले की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और  गैस कटर से कार को काटकर शव निकाले गए। पुलिस ने हादसे में मारे गए 6 लड़कों शव बरामद कर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजे और उनकी पहचान की गई। जिसमें मृतकों के नाम  ऋषि (19) , गोलू उर्फ सूरज (25) छोटू उर्फ चंद्रभान रघुवंशी, सोनू जाट (23) सुमित (30) देव (28) हैं। 
बताया जाता है कि सभी दोस्त सोमवार रात करीब 8 बजे अपने घर से पार्टी करने के लिए इंदौर से देवास के लिए निकले  थे। जहां उन्होंने हाइवे पर किसी ढाबे पर पार्टी की। फिर रात एक बजे वह कार में म्यूजिक बजाते हुए मस्ती करते आ रहे थे। कार की स्पीड भी बहुत तेज थी, जिसके चलते चालक को सामने खड़ा टैंकर दिखाई नहीं दिया और उसमें जाकर टकरा गए। हादसे के चश्मदीद पेट्रोल पंप पर काम करने वाले धर्मेंद्र यादव ने बताया कि मैं पेट्रोल पंप पर गाड़ियों में पेट्रोल डाल रहा था। इसी दौरान हाईवे की ओर से जोर का धमाका सुनाई दिया। पास जाकर दौड़कर पहुंचा तो  MP09 WC 4736 नंबर वाली कार टैंकर में पीछे से घुसी हुई थी। उसके अंदर लड़के खून से लथपथ हालत में चीख रहे थे, लेकिन कुछ देर बाद ही उनकी मौत हो गई।  कार के परखच्चे उड़ चुके थे और कार सवार कार से बाहर लटके हुए थे।