शास्त्रों की बात , जानें धर्म के साथ देश में विभिन्न शिव मंदिरों की भरमार देखने को मिलती है।

कहा जाता है इनमें से कई शिव स्थलों से जुड़े ऐसे कई रहस्य हैं जिनका रहस्य बेहद पेचीदा है। अर्थात जिन्हें सुलझा पाना असंभव जैसा हो गया है। तो वहीं इनमें से कई ऐसे मंदिर जिनसे जुड़ी पौराणिक कथाएं इतनी रहस्यमयी है, कि इसके चलते इन मंदिरों को देश में अधिक प्रसिद्धि प्राप्त है। जी हां, आप बिल्कुल ठीक समझ रहे हैं, हम आपको एक शिव मंदिर के बारे में ही बताने जा रहे हैं। उत्तर प्रदेश के आगरा से 70 कि.मी दूर यमुना तट पर स्थित है, जो अपने साथ जुड़ी दिलचस्प पौराणिक कथा के कारण अति प्रसिद्ध है। बताया जाता है इस मंदिर में शिव जी बड़े-बड़े आंखों वाली प्रतिमा के रूप में विराजमान है। असल में इस मंदिर में शिव-पार्वती को सेठ-सेठानी के रूप में स्थापित किया गया है। कहा जाता है इस मंदिर में विराजमान शिव जी की ये प्रतिमा दुनियाभर में एकमात्र है। इस प्राचीन शिव मंदिर को 101 शिव मंदिरों की श्रृंखला के लिए जाना जाता है, जिसका निर्माण राजा बदन सिंह भदौरिया द्वारा करवाया गया था। इसके अलावा इस मंदिर के साथ क्या क्या पौराणिक कथाएं जुड़ी हैं, आइए जानते हैं-

प्राचीन समय की बात है राजा बदन सिंह भदौरिया और तत्कालीन राजा परमार दोनों की रानियां एक समय में ही गर्भवती थीं। दोनों मित्र ने आपस में समझौता किया कि जिसके भी कन्या होगी, वह दूसरे के पुत्र से उसकी शादी करेंगे। दोनों राजाओं के यहां पुत्री ही हुईं। परंतु राजा बदन सिंह ने राजा परमार के पास झूठी खबर भिजवा दी कि उनको पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई है। समय बीतता गया राजा परमार अपनी कन्या के विवाह के लिए राजा परमार के पुत्र का इंतजार करने लगे।

एक दिन बदन सिंह भदौरिया की बेटी को पता चला कि उसके पिता ने राजा परमार से झूठ बोला है तथा अपने लड़के से शादी करने का वचन दिया है। पिता के वचन को पूरा करने के लिए वह बटेश्वर नामक स्थान पर शिव की कठोर तपस्या करने लगी। अपने पिता की लाज और विनती न सुने जाने के कारण उसने आत्महत्या के लिए यमुना में छलांग लगा दी।

परंतु भगवान शिव की तपस्या के स्वरूप चमत्कार हुआ और वह कन्या उसी जगह पर पुरुष रूप में उत्पन्न हो गई। प्रचलित लोक कथाओं के अनुसार इसी खुशी के कारण राजा बदन सिंह भदौरिया ने बटेश्वर में एक सौ एक मंदिरों का निर्माण करवाया, जो बटेश्वर धाम के नाम से प्रसिद्ध हुआ।