दंतेवाड़ाछत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में सुरक्षाबलों ने एक मुठभेड़ में 8 लाख रुपये के इनामी नक्सली कमांडर को मार गिराया। मुठभेड़ के दौरान एक कॉन्स्टेबल की भी मौत हो गई। हालांकि पुलिस ने कहा है कि दिल का दौरा पड़ने से कॉन्स्टेबल की मौत हुई है, गोली लगने से नहीं।
सूत्रों के अनुसार, नक्सली सुरक्षाबलों पर एक बड़ा हमला करने के लिए सुकमा की ओर जा रहे थे, जब उन्हें बीच में रोक दिया गया। हमारे सहयोगी टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में डीआईजी नक्सल ऑपरेशन पी सुंदरराज ने इसे हाल के दिनों में बस्तर में नक्सलियों के खिलाफ सबसे बड़े अभियानों में से एक बताया।

'बड़े हमले की तैयारी में थे'
उन्होंने कहा, 'विश्वस्त सूत्रों से जानकारी मिली थी कि पीपल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी के सैकड़ों नक्सली किसी बड़े हमले के फिराक में कटेकल्याण के जंगलों में कैंप कर रहे हैं। इसके बाद वहां सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया। जिला रिजर्व गार्ड के सैकड़ों जवान इस मिशन में लगे।'

'विद्रोहियों की सैन्य शाखा में हुआ शामिल'
डीआईजी ने बताया, 'सर्च ऑपरेशन के दौरान जवानों ने एक माओवादी का शव बरामद किया। बाद में माओवादी सैन्य विंग के प्लाटून नंबर 26 के डेप्युटी कमांडर कावासी देवा के रूप में इसकी पहचान हुई। इस पर 8 लाख रुपये का इनाम था। देवा पहले कांगेर घाटी क्षेत्र समिति के सदस्य के रूप में सक्रिय था। वह हाल ही में विद्रोहियों की सैन्य शाखा में शामिल हुआ था।'