बिलासपुर. गिरफ्तारी के एक महीने बाद अमित जोगी के लिए एक अच्छी खबर आई है. छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी (Ajit Jogi) के बेटे और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी (Amit Jogi) जेल से रिहा हो गए हैं. पेंड्रा उप जेल में अमित जोगी 31 दिनों तक रहे. शुक्रवार को रिहाई का आदेश जेल पहुंचा. जूनियर जोगी की रिहाई की खबर मिलते ही कार्यकर्ताओं में खुशी की लहर दौड़ गई. जोगी का स्वागत करने जेल के बाहर उनकी पत्नी ऋचा जोगी सहित भारी मात्रा में कार्यकर्ता मौजूद रहे.

पत्नी ऋचा जोगी से मिले सबसे पहले

जेल से रिहा होती ही अमित जोगी का स्वागत करने उनकी पत्नी हाथ में थाली लिए मौजूद थीं. जेल से बाहर आने के बाद अमित जोगी ने पत्नी ऋचा जोगी को गले लगा लिया. कार्यकर्ताओं ने फूलों की माला के साथ जूनियर जोगी का स्वागत किया.
अमित जोगी ने दिया ये बयान

जेल से रिहा होने के बाद अमित जोगी ने कहा कि मैं कार्यकर्ताओं और न्यायपालिका का आभारी हूं. प्रदेश की गौठानों में मवेशियों की मौत हो रही है. छत्तीसगढ़ शराब बेचने में देश में नंबर वन बन गया है. अंग्रेजी हुकूमत की तरह सरकार विरोध को दबाने का कर रही काम. उन्होंने कहा कि पदयात्रा नहीं पद पाने के लिए यात्रा कर रहे हैं मुख्यमंत्री. मेरे पिता ने जब भी मुझे देखने पहुंचे, हमेशा मुझे घायल शेर के रूप में सम्बोधित किया. नए सिरे से जेसीसीजे भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, तानाशाही, वादाखिलाफी और शराबखोरी के खिलाफ संघर्ष प्रारंभ करेगी
चुनावी हलफनामे में गलत जानकारी देने के आरोप में फंसे अमित जोगी को गुरुवार को हाईकोर्ट ने जमानत दे दी थी. गिरफ्तारी के तकरीबन एक महीने बाद जूनियर जोगी को कोर्ट से बेल मिला. बता दें कि बीजेपी नेत्री समीरा पैकरा ने अमित जोगी के खिलाफ शिकायत की थी, जिसके बाद 3 सितंबर को बिलासपुर से उनकी गिरफ्तारी हुई थी.