भोपाल.सीएम कमलनाथ ने (cm kamalnath), सागर ज़िले (sagar district)के रहली में अपने छोटे भाई-बहन की रोटी के लिए मंदिर में चोरी (Theft in the temple)करने वाली बच्ची के हालात पर ध्यान दिया है. सीएम ने बच्ची के परिवार को आर्थिक सहायता, सरकारी योजनाओं का लाभ और बच्ची की पढ़ाई की व्यवस्था करने का एलान किया है.
सीएम कमलनाथ ने ट्वीट किया. उन्होंने लिखा-कई बार जीवन यापन के लिए,अभाव में मासूम ग़लत राह पकड़ लेते हैं. उन्होंने आगे लिखा कि सागर ज़िले के रहली गांव के मज़दूर परिवार को एक लाख की आर्थिक सहायता प्रदान करने का निर्देश दे दिया गया है. साथ ही उसके परिवार को सरकारी योजनाओं का लाभ, परिवार को राशन और बच्चों की पढ़ाई की व्यवस्था भी सरकार करेगी.
 ख़बर का असर- न्यूज 18 की ख़बर का असर हुआ है. सागर से एक टीम पीड़ित बच्ची को लेने शहडोल गयी है.  बच्ची को लेकर टीम सागर लौटेगी.
ये है मार्मिक कहानी
सागर (sagar)ज़िले के टिकीटोरिया में रहने वाली इस बच्ची ने अपने भाई-बहन की रोटी का इंतज़ाम करने के लिए गांव के मंदिर में चोरी कर ली थी. 12 साल की ये बच्ची मंदिर की दान पेटी से 250 रुपए निकाल लायी थी. उसमें से 180 रुपए में उसने आटा खरीदा और बाकी 70 रुपए अपने बैग में रख लिए थे.
CCTV ने पकड़ी चोरी
भूख़़ से बेबस बच्ची इस बात से अनजान थी कि मंदिर में सीसीटीवी लगा हुआ है. जो उसकी हरक़त को क़ैद कर रहा है. चोरी पकड़ में आते ही बच्ची को पकड़ लिया गया और उसे बाल सुधार गृह शहडोल भेज दिया गया.
बिना मां की बच्ची
इस 12वर्षीय बच्ची के सिर से तीन साल पहले मां का साया उठ गया था. उसके पिता मज़दूरी करते हैं. मजदूरी के उसी थोड़े-बहुत पैसे से वो अपना और अपने तीन बच्चों का पेट पालते हैं.ये बच्ची छोटे भाई-बहनों के लिए घर में मां की भूमिका निभाती है और फिर बाहर निकलकर रोटी-पानी का इंतज़ाम करती है. इन सब ज़िम्मेदारियों के बीच वो पढ़ने स्कूल भी जाती है.
बच्ची का बयान
पकड़े जाने के बाद बच्ची ने बताया कि उसने छोटे भाई-बहन के खाने के लिए पैसे चुराए थे. पिता ने उसे दो किलो गेहूं पिसवाने के लिए दिए थे. लेकिन उसके गेहूं किसी ने चक्की से चुरा लिए. पिता ने बहुत मुश्किल से जैसे-तैसे दो किलो गेहूं का इंतज़ाम किया था. वो डर गयी कि अब पिता को क्या बताएगी. बस उन्हीं हालात में उसके मन में चोरी की बात आ गयी.वो मंदिर गयी. दान पेटी की गुंडी बहुत आसानी से खुल गई और उसने उसमें से 250रूपए निकाल लिए. पुलिस जब उसे पकड़ने घर गयी तो उसने पिता को बताया कि 180 रुपए का आटा ख़रीदने के बाद बाकी बचे 70 रुपए उसने स्कूल बैग में रख दिए हैं.