बच्चे का घर उसका पहला स्कूल होता है, ऐसे में एक अभिभावक होने के नाते आपका फ़र्ज़ बनता है कि अपने बच्चे को शुरुआत से ही अच्छी आदतें सिखाएं। ऐसे में जरूरी है कि आप भी उनके साथ इन चीजों को दोहराएं, जिससे कि वह आसानी से इनका पालन क्योंकि, यह सच है कि बच्चे जो घर में देखते हैं वही सीखते हैं। ऐसे में, अपने बच्चों में इन आदतों को जरूर शामिल करें। 
बड़ों का सम्मान करना- आज के समय में बच्चे इतने शैतान होते हैं कि वह अपने से बड़े को कुछ नहीं समझते हैं। हालाँकि, ऐसा इसलिए होता है कि उन्हें अच्छे-बुरे का फर्क समझ में नहीं आता है। ऐसे में अपने बच्चे को सबसे पहले बड़े लोगों की इज़्ज़त करना सिखाएं। 
प्लीज और थैंक्यू कहना सिखाएं- अपने बच्चे को प्लीज और थैंक्यू कहना सिखाएं खासकर जब कोई व्यक्ति (अनजान नहीं) उसे चॉकलेट या उपहार दे तो थैंक्यू कहना चाहिए। इसके अलावा जब किसी से सहायत लेनी हो तो प्लीज कहना चाहिए जैसी चीजों को सिखाएं। क्योंकि, कुछ बच्चे ऐसे होते हैं जो प्लीज और थैंक्यू जैसे शब्दों का प्रयोग नहीं करते हैं।
सुबह जल्दी उठने को कहें- आज के समय में बच्चे ही नहीं बड़ों की भी यह बहुत बड़ी समस्या है, और वह है सुबह जल्दी उठना। क्योंकि, आज के समय में लेट सोना और लेट उठना आदत सी बन गयी है। ऐसे में अपने बच्चों में सुबह जल्दी उठने की आदत डालें, इससे न केवल हेल्थ सही रहेगा बल्कि बच्चे एक्टिव भी होंगें।
खाने से पहले हाथ धोना- अपने बच्चों की सेहत का ध्यान रखते हुए उन्हें खाने से पहले हाथ धोने की सलाह दें। क्योंकि, ऐसा करने से बच्चे को संक्रमण से बचाया जा सकता है, भले ही आपका बच्चा चम्मच से खाना क्यों न खा रहा हो। इतना ही नहीं बेहतर सुरक्षा और सफाई के लिए खाने के बाद भी हाथ धोना चाहिए।
खाना खाने के बाद ब्रश की आदत डालें- अपने बच्चे को खाना खाने के बाद ब्रश की आदत डालें, ताकि दांतों में सड़न से छुटकारा पाया जा सके। सामान्यतः खाने के बाद भोजन के टुकड़े दांतों में फसें होते हैं, ऐसे में डॉक्टर भी खाने के बाद रात में ब्रश करने की सलाह देते हैं। हालाँकि, यह सिर्फ बच्चे ही नहीं बड़ों के लिए भी फायदेमंद होता है।
बच्चों को अलग-अलग तरह से खेलों में शामिल करें। वहां पर आपका बच्चा अपने हमउम्र बच्चों के साथ आरामेद महसूस करेगा। इन खेलों के जरिये बच्चा दूसरे बच्चों के साथ उसका जुड़ेगा। इस दौरान वह अपने को स्वतंत्र महसूस करेगा, जिसके कारण बच्चे का सामाजिक विकास तेज़ी से होगा। 
आउटडोर गेम्स पर दें जोर 
बच्चे को खिलौनों में व्यस्त रखने की बजाय आउटडोर गेम्स खेलने के लिए प्रोत्साहित करें। आउटडोर गेम्स खेलते हुए वह अन्य बच्चों के संपर्क में आएगा और नई-नई बातें सीखेगा, जिससे बच्चे के सामाजिक और मानसिक विकास में वृद्धि होगी।
शेयरिंग की आदत डालें 
खेलों के दौरान अपने बच्चे को खिलौने या फूड आइटम्स आदि चीज़ों को शेयर करने को कहें। उसे साझा करने का महत्व समझाएं।