राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार शुक्रवार को बैलार्ड एस्टेट स्थित प्रवर्तन निदेशालय के दफ्तर में पेश होंगे. शरद पवार ने अपने समर्थकों से अपील की है कि वे ईडी के दफ्तर के सामने न जुटें. हालांकि बलार्ड एस्टेट के आसपास धारा 144 लागू कर दी गई है.
    शरद पवार की पेशी से पहले ईडी दफ्तर में पास धारा 144 लागूईडी के सामने पवार की पेशी पर सुरक्षा इंतजाम सख्त

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार आज (शुक्रवार) को बैलार्ड एस्टेट स्थित प्रवर्तन निदेशालय के दफ्तर में पेश होंगे. शरद पवार ने अपने समर्थकों से अपील की है कि वे ईडी के दफ्तर के सामने न जुटें. हालांकि बलार्ड एस्टेट के आसपास धारा 144 लागू कर दी गई है.

शरद पवार की अपील के इतर उनके पोते रोहित पवार ने पार्टी कार्यकर्ताओं से पेश के दिन मुंबई में जुटने की अपील की है जिससे शुक्रवार को शरद पवार की पेशी के दौरान हंगामे के आसार हैं. इसलिए बलार्ड एस्टेट के आसपास धारा 144 लागू कर दी गई है. पुलिस की टीम स्निफर डॉग के साथ एनसीपी कार्यालय में पहुंच गई है, वहीं इस बीच एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल शरद पवार से मिलने उनके आवास पर पहुंचे हैं.
माना जा रहा है कि शरद पवार की पेशी के दौरान भारी संख्या में एनसीपी समर्थक ईडी दफ्तर के बाहर जुट सकते हैं. हालांकि उन्होंने अपने समर्थकों से अपील की है कि वे ईडी के दफ्तर के सामने न जुटें.
हम संविधान का आदर करने वाले लोगः पवार

शरद पवार ने गुरुवार को कहा था कि हम संविधान का आदर करने वाले लोग हैं, इसलिए पुलिस और अन्य सरकारी एजेंसियों के साथ जांच में सहयोग करेंगे. इसलिए किसी भी तरह का ऐसा कोई काम न करें, जिससे लोगों को दिक्कत हो.

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की ओर से मनी लांड्रिंग मामले में नामित एनसीपी के अध्यक्ष पवार ने कहा कि वह खुद शुक्रवार को दोपहर ईडी कार्यालय में पेश होंगे. विधनासभा चुनाव से ठीक पहले शरद पवार पर केस दर्ज से पार्टी पर बड़ा संकट आ गया है वह भी तब उसकी पार्टी के कई बड़े नेता पार्टी छोड़कर बीजेपी में शामिल हो रहे हैं.

क्या है पूरा मामला?

ईडी ने महाराष्ट्र स्टेट को-ऑपरेटिव बैंक (एमएससीबी) में 25 हजार करोड़ रुपये के कथित घोटाले में शरद पवार और उनके भतीजे अजीत पवार के साथ ही अन्य राजनेताओं और कई अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. हालांकि इसके विरोध में एनसीपी के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने ईडी कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया.

अगले महीने 21 अक्टूबर को महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव होने हैं. इससे पहले ईडी के इस कदम से राज्य में राजनीतिक हलचल पैदा कर दी है. एक महीना पहले ही बॉम्बे हाईकोर्ट ने मुंबई पुलिस को एमएससीबी मामले में एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया था.