भोपाल
महिलाओं की सुरक्षा और निगरानी के लिए कन्या महाविद्यालय महिला पुलिस चौकी खोली जायेगी| उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी के निर्देश पर उच्च शिक्षा विभाग ने यह फैसला किया है| इस संबंध में  उच्च शिक्षा विभाग द्वारा सभी जिला पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखकर राज्य शासन के वचन पत्र में कन्याओं के शैक्षणिक संस्थाओं महिलाओं की कामकाजी क्षेत्रों को चिन्हित कर वहाँ पुलिस चौकी की स्थापना और उन क्षेत्रों पर महिला गश्त की व्यवस्था करने की बात कही है।
उच्च शिक्षा विभाग द्वारा सभी कन्या एवं को-ऐड महाविद्यालय के प्राचार्य को पत्र लिखकर निर्देशित किया गया है कि वे कड़ाई से इसका पालन सुनिश्चित करें। प्राचार्य को महाविद्यालय में छात्राओं की समिति गठित करने के निर्देश दिए हैं। समिति की बैठक में छात्राओं के हस्ताक्षर सहित सुरक्षा संबंधी सुझाव प्राप्त किया जाएगा। इन प्राप्त सुझावों के बारे में प्राचार्य स्थानीय पुलिस अधिकारियों से बिंदुवार चर्चा करेंगे।
 बैठक के आधार पर प्राचार्य स्थानीय स्तर पर सुरक्षा से संबंधित पत्र जारी करेंगे। सभी कन्या महाविद्यालय  के कामन एरिया में (जिसमें निजता भंग ना हो) विशेष तौर पर प्रवेश और निर्गम द्वार पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएँ। इसके अलावा प्राचार्य को निर्देशित किया गया है कि पिछले 2 वर्ष में उक्त संस्थाओं में कोई गंभीर घटना यदि घटित हुई है तो घटना में शामिल लोगों की तथा क्या कार्यवाही की गई की जानकारी स्थानीय कलेक्टर और पुलिस प्रशासन को दें। कन्या महाविद्यालय और कन्या छात्रावासों में काम कर रहे सभी संविदा कर्मचारियों का 15 दिन में पुलिस सत्यापन करना अनिवार्य रूप से सुनिश्चित करें। प्राचार्य अपने महाविद्यालय और छात्रावास में पूर्व में की गई सुरक्षा व्यवस्था की जानकारी आयुक्त उच्च शिक्षा को निर्धारित प्रारूप में उपलब्ध कराना होगा। क्षेत्रीय अतिरिक्त संचालक उच्च शिक्षा समय-समय पर महाविद्यालयों के निरीक्षण के दौरान निर्देशों के क्रियान्वयन की जानकारी प्राप्त करेंगे और शासन को प्रतिवेदन भेजेंगे।