बिलासपुर । मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज सरकंडा बिलासपुर में 859.48 लाख रूपये की लागत से नवनिर्मित बैरिस्टर ठाकुर छेदीलाल कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केन्द्र का लोकार्पण किया। इस दौरान उन्होंने महाविद्यालय के प्रतिभावान छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि किसानों को आगे बढ़ाने के लिये कृषि के क्षेत्र में काम करने की आवश्यकता है। इसके लिये किसानों को सही दिशा एवं उत्पादन के साथ बाजार भी उपलब्ध हो। धान उत्पादन के साथ-साथ उसका सहायक उद्योग भी लगना चाहिये। कृषि करोड़ों लोगों को रोजगार देता है। आज भी देश में 70 प्रतिशत लोग कृषि पर आधारित है। छत्तीसगढ़ में पर्याप्त नदियां, जीवन्त नालियां और उपजाऊ जमीन है। यहां भरपूर खनिज संसाधन उपलब्ध है। इसके लिये योजना बनाकर काम करने की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी वर्षों में छत्तीसगढ़ की तस्वीर बदलेगी। उन्होंने कहा कि बैरिस्टर ठाकुर छेदीलाल विद्वान, कुशाग्र बुद्धि के साथ सहज, सरल भी थे। उनके नाम के अनुरूप यह कृषि महाविद्यालय ऊंचाई पर पहुंचेगा।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने कहा कि खेती हमारा मूल आधार है। छत्तीसगढ़ में धान के साथ सोयाबीन, गन्ना, गेहूं, चना और सब्जियों का बेहतर उत्पादन होता है। लगभग ढाई-तीन सौ करोड़ रूपये का टमाटर उत्पादन होता है। इसकी प्रोसेसिंग की जरूरत है। छत्तीसगढ़ में आने वाले समय में कृषि के क्षेत्र में बेहतर विकास करेंगे। यह देश का समृद्ध राज्य बनेगा। इसी तरह नये-नये कृषि महाविद्यालय खोले जायेंगे। कृषि के साथ उद्यानिकी महाविद्यालय खोलने के लिये मुख्यमंत्री के निर्देश है। श्री चौबे ने आव्हान किया कि छत्तीसगढ़ की समृद्धि के लिये मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं सरकार की मंशा के अनुरूप अपना योगदान देंगे। गृह मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि किसान अधिक उपज के लिये दवाईयों का उपयोग करने लगे हैं। जो स्वास्थ्य के लिये ठीक नहीं है। हमें जैविक खेती की ओर बढऩा आवश्यक है। उन्होंने महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं से कहा कि पढ़ाई का मतलब नौकरी न समझें, बल्कि जो पढ़ाई कर रहे हैं उसे अपना साधन बनाये। यह महाविद्यालय कमियों के बावजूद अनेक उपलब्धियां हासिल की है। इसके लिये उन्होंने बधाई दी। इन्दिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ.एस.के.पाटिल ने कृषि विश्वविद्यालय एवं उसके अधीनस्थ कृषि महाविद्यालयों के संबंध में जानकारी दी। कार्यक्रम के पूर्व महाविद्यालय में नवप्रवेशित छात्रों का उन्मुखीकरण कार्यक्रम भी आयोजित किया गया। इस अवसर पर आयोजित कृषि प्रदर्शनी अतिथियों ने अवलोकन किया। अतिथियों द्वारा डॉ.सी.पी.पाण्डेय एवं संजय वर्मा के पुस्तक फंडामेंटल एवं हार्टीकल्चर पुस्तक का विमोचन किया गया।
कार्यक्रम में बिलासपुर विधायक शैलेष पाण्डेय, तखतपुर विधायक श्रीमती रश्मि सिंह, कटघोरा विधायक पुरूषोत्तम कंवर, पूर्व विधायक बोधराम कंवर, अटल श्रीवास्तव, श्रीमती चन्द्राकर, प्रदीप शर्मा, आनंद मिश्रा, महाविद्यालय के प्राध्यापकगण, छात्र-छात्राएं एवं क्षेत्र के किसान मौजूद थे।