आजकल अगर हिन्दी के साथ ही स्थानीय भाषा में भी पारंगत हैं तो आपके पास रोजगार का अच्छा अवसर है। 
बड़ी−बड़ी कंपनियों को अपने कारोबार को आगे बढ़ाने के लिए स्थानीय भाषा के जानकारों की भी जरूरत पड़ रही हैं, उसके कारण स्थानीय भाषा के जानकारों के लिए रोजगार की संभावनाएं बढ़ी हैं। इस क्षेत्र में आने वाले व्यक्ति को वास्तव में अंग्रेजी या हिंदी के कंटेंट का स्थानीय भाषा में अनुवाद करना होता है। वह दिए गए कंटेंट (विषय) के भाव को समझकर स्थानीय भाषा में उसे अनुवाद करता है। यह महज अंग्रेजी से हिन्दी का अनुवाद नहीं है, बल्कि आपकी स्थानीय भाषा में अच्छी पकड़ होनी चाहिये जिससे किसी भी विज्ञापन आदि के सभी भाव उभरकर आते हैं।  ।
स्किल्स
काम सिर्फ भाषा से जुड़ा है, इसलिए आपकी कम से कम दो भाषाओं पर अच्छी पकड़ होनी चाहिए। इसमें व्यक्ति सिर्फ शब्द का ही अनुवाद नहीं करता, बल्कि वह दिए गए विषय के भावार्थ को समझकर उसका अनुवाद करता है। इसलिए यह बेहद जरूरी है कि आप अनुवाद करते समय शब्दों के विकल्पों में से सटीक शब्दों का चयन करें। इस क्षेत्र में आपकी क्वालिटी के साथ−साथ स्पीड व सटीकता भी अहम होती है। इस क्षेत्र में वही व्यक्ति सफल हो सकता है, जिसमें हमेशा कुछ न कुछ पढ़ने की चाहत हो, क्योंकि आप जितना अधिक पढ़ते हैं, आपका शब्दकोश उतना ही मजबूत होता चला जाता है।
योग्यता
इस क्षेत्र में कॅरियर बनाने के लिए अलग से किसी कोर्स को करना जरूरी नहीं है। बस आपकी स्थानीय भाषा पर पकड़ अच्छी होनी चाहिए। अगर ऐसा नहीं है तो आप शॉर्ट टर्म लैंग्वेज कोर्स के जरिए अपने स्किल्स को निखार सकते हैं। 
संभावनाएं
इस क्षेत्र में काम की कोई कमी नहीं है। आज हर बड़ी कंपनी खुद का अधिक से अधिक विस्तार करना चाहती है, जिसके कारण स्थानीय भाषा के जानकारों की काफी जरूरत पड़ती है। आप किसी भी बड़ी कंपनी में बतौर टांसलेटर या रिव्यूयर बनकर खुद को स्थापित कर सकते हैं। अगर आपका काम अच्छा है तो कंपनी काफी अच्छा सैलरी पैकेज भी ऑफर करती है। अगर आप कहीं पर फुल टाइम जॉब नहीं करना चाहते तो आप पार्ट टाइम या घर से भी बतौर फ्रीलासंर काम कर सकते हैं।
आमदनी
इस क्षेत्र में शुरूआती वेतन दस से पंद्रह हजार के बीच रहता है धीरे−धीरे अनुभव के बाद यह बढ़ता जाता है। वहीं अगर आप बतौर फ्रीलासंर काम करते हैं तो आपकी आमदनी आपको मिलने वाले प्रोजेक्ट पर निर्भर करेगी।