इन्दौर । मरीमाता चौराहा स्थित श्री सिद्ध विजय गणेश मंदिर पर आज गणेशजी की दिव्य प्रतिमा का राजस्थानी श्रृंगार किया गया। इसके पूर्व 11 विद्वानों ने मंत्रोच्चार के बीच दूध एवं फल-फूल से अभिषेक कर गणेशजी को छप्पन भोग समर्पित किए। मंदिर के चारों ओर पर एक-एक किलोमीटर तक आकर्षक विद्युत सज्जा की गई है। मंदिर के गर्भगृह से लेकर समूचे परिसर को 11 लाख प्रकाश पुंजों की आकर्षक पुष्प एवं विद्युत सज्जा से श्रंृगारित किया गया है।
संयोजक गोलू शुक्ला एवं श्रवण शुक्ला ने बताया कि सिद्ध विजय गणेश के श्रृंगार दर्शन हेतु मंदिर एवं चौराहे पर भक्तों की सुविधा के लिए समुचित प्रबंध किए गए हैं। मंदिर के प्रवेश द्वार एवं दाएं-बाएं बेरिकेट्स लगाकर भीड़ को नियंत्रित करने की व्यवस्था की गई है ताकि चौराहे का यातायात बाधित न हो सके। आज महोत्सव के पहले दिन ही सिद्ध विजय गणेश के दर्शनार्थ भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा। रात्रि को महाआरती में समाजसेवी पं. विष्णुप्रसाद शुक्ला, पूर्व पार्षद राजेंद्र शुक्ला, विधायक संजय शुक्ला सहित अनेक विशिष्टजन शामिल हुए। महोत्सव में पूरे दस दिनों तक प्रतिदिन रात 9 बजे से भजन संध्या, तेजाजी की कथा एवं अन्य धार्मिक आयोजन होंगे। मंदिर के पुजारी पं. प्रेमनारायण शास्त्री, पं. महेंद्र शर्मा, राजेंद्र शास्त्री के निर्देशन में भगवान के नित्य नूतन श्रृंगार का सिलसिला आज से शुरू हो गया है। आज सिद्ध विजय गणेश को राजस्थानी श्रृंगार में सूखे मेवों एवं मावे से सजाया गया था। श्रृंगार दर्शन के लिए पहले दिन ही 20 हजार से अधिक भक्तों ने कतारों में लगकर दर्शन किए। महिला एवं पुरूषों के लिए पृथक कतारों में दर्शन की व्यवस्था की गई है।