मध्य प्रदेश के बुरहानपुर (Burhanpur) नगर निगम आयुक्त (Commissioner) के दफ्तर में उस वक्त अच्छा-खासा तमाशा खड़ा हो गया. जब दफ्तर आई एक महिला नगर निगम के एक अफसर को चप्पलों से पीटने पर आमादा हो गयी. महिला का कहना था कि अफसर काम के बदले उसे शाम को अपने घर बुला रहे थे. दरअसल बुरहानपुर नगर निगम में एक महिला अपने किसी काम से आयी थी लेकिन थोड़ी देर बाद उसने हंगामा खड़ा कर दिया. महिला गुस्साई हुई आयुक्त बीडी भूमरकर के कमरे में पहुंची. उसने उनसे नगर निगम के सहायक यंत्री की शिकायत करते हुए कहा कि वो उससे अश्लील बातें कह रहे हैं.

महिला का आरोप था कि वो सहायक यंत्री के पास अपने काम से गयी थी लेकिन अफसर ने उससे काम के बदले शाम को घर आने के लिए कहा. महिला नगर निगम आयुक्त से भी काफी बहस करती रही. वो उंगली उठा कर शिकायत करती रही.
नगर निगम दफ्तर में हंगामा

महिला के शिकायत करते ही आयुक्त ने फौरन सहायक यंत्री को बुलाया. लेकिन वो दो घंटे बाद आए. तब तक ऑफिस में हंगामा और बवाल कटता रहा. जैसे ही सहायक यंत्री वहां पहुंचे महिला ने उन्हें पीटने के लिए अपनी चप्पल उतार ली. इस हाई वोल्टेज ड्रामा को दफ्तर के कर्मचारी और वहां काम के लिए आए लोग मजमा लगाकर देखते रहे. गुस्से में चिल्ला रही महिला उस अफसर को पीटने पर आमादा थी. वो और उसका पति गाली-गलौच कर रहे थे. उनके गुस्से को देखते हुए सहायक यंत्री बचने के लिए आयुक्त के पीछे खड़े हो गए. काफी देर तक यह तमाशा चलता रहा.
कारण बताओ नोटिस

यहां मामला निपटा तो शिकायतकर्ता महिला कोतवाली पुलिस थाने पहुंच गयी. वहीं सहायक यंत्री का कहना है कि महिला अपनी सास की छुट्टी का आवेदन लेकर आई थी. वो मानसिक रूप से डिस्टर्ब है और उसके आरोप निराधार हैं. आयुक्त ने कहा कि महिला को वैधानिक कार्रवाई करने के लिए पुलिस स्टेशन जा कर रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए कहा गया है. हालांकि उन्होंने कहा कि सहायक यंत्री को इस मामले में कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है.