नई दिल्ली । पूर्व वित्त एवं गृह मंत्री पी चिदंबरम को आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में गुरुवार को राउज एवेन्यू कोर्ट में पेश किया गया। सीबीआई की विशेष अदालत ने उन्हें 26 अगस्त तक हिरासत में भेज दिया। सीबीआई ने पांच दिन की ही रिमांड मांगी थी। अदालत ने कहा कि इस दौरान चिदंबरम के वकील और परिजन उनसे रोजाना एक घंटे तक मुलाकात कर सकते हैं। 
पूर्व केंद्रीय मंत्री को भ्रष्टाचार के इस मामले में बुधवार रात सीबीआई और ईडी की टीम ने उनके घर से नाटकीय घटनाक्रम के बाद गिरफ्तार किया था। कोर्ट में पेश किए जाने पर चिदंबरम के वकील अभिषेक मनु सिंघवी और कपिल सिब्बल ने रिमांड दिए जाने का जमकर विरोध किया। डेढ़ घंटे तक चली बहस के बाद कोर्ट ने उनकी दलीलों को खारिज करते हुए फैसला सुरक्षित रख लिया और पांच दिनों की रिमांड पर भेज दिया। 
चिदंबरम के वकीलों की दलील
सिब्बल: जमानत देना नियम है और अदालत के समक्ष मुद्दा व्यक्तिगत स्वतंत्रता का है। 
सिंघवी: समूचा मामला इंद्राणी मुखर्जी के बयान पर आधारित है, जो अब सरकारी गवाह बन चुकी है। चिदंबरम से हिरासत में पूछताछ की जरूरत नहीं है, क्योंकि सीबीआई ने सबूत से छेड़छाड़ का कोई आरोप नहीं लगाया है।
दलील का विरोध
सॉलिसिटर जनरल: अदालत के सामने सब समान हैं। मामले में कुछ तथ्यों के बारे में खुली अदालत में नहीं बताया जा सकता है। दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद अदालत ने फैसला सुरक्षित रखा।  
चिदंबरम ने ली चुटकी 
इस दौरान कोर्ट पहुंचते ही चिदंबरम ने सबसे पहले अपने वकील विवेक तन्खा, कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी से मुलाकात की, जिसके बाद उनको कठघरे में खड़ा किया गया। इस बीच चिदंबरम ने सीबीआई अधिकारियों से चुटकी लेते हुए कहा कि यह कोर्ट रूम तो बहुत छोटा है, मुझे बड़े कोर्ट रूम की उम्मीद थी। क्या कोर्ट के सभी रूम छोटे हैं। इस पर सीबीआई अधिकारियों ने कहा कि राउज एवेन्यू कोर्ट के सभी कोर्ट रूम छोटे हैं। 
सवालों के जवाब नहीं दे रहे चिदंबरम 
चिदंबरम आईएनएक्स मीडिया मामले में सीबीआई को जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। सीबीआई के सूत्रों के अनुसार, चिदंबरम सीबीआई को न ही इस केस के बाबत कोई जानकारी दे रहे हैं और न ही सीबीआई द्वारा पूछे गए अधिकतर सवालों का जवाब दे रहे हैं। चिदंबरम के इस रुख को देखते हुए सीबीआई अब इंद्राणी मुखर्जी से उनका आमना-सामना कराने की तैयारी में है। 
मेरे पिता के खिलाफ दुर्भावनापूर्ण अभियान चलाया जा रहा है : कार्ति 
पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम के बेटे और कांग्रेस सांसद कार्ति चिदंबरम गुुरुवार को चेन्नई से दिल्ली पहुंचे। उन्होंने कहा कि मैं कभी भी इंद्राणी या पीटर मुखर्जी से नहीं मिला। मेरे पिता के खिलाफ दुर्भावनापूर्ण अभियान चलाया जा रहा है। सरकार मेरे पिता को खामोश करना चाहती है। मैं आईएनएक्स केस के बारे में कुछ नहीं जानता। मुझे ईडी ने 20 बार बुलाया और मैं गया भी। एफआईपीबी के सदस्य मुझसे कभी नहीं मिले। मैं इंद्राणी मुखर्जी से केवल एक बार मिला था, जब सीबीआई ने मेरा और उनका आमना-सामना कराया था। इस मामले में अभी तक कोई चार्जशीट क्यों नहीं दायर की गई। कार्ति ने बातचीत में कहा कि केवल मेरे पिता को ही नहीं, बल्कि पूरी कांग्रेस को ही टारगेट किया जा रहा है। मैं इसके विरोध में जंतर-मंतर पर धरना दूंगा।