नई दिल्ली: हरियाणा में स्थित हथिनीकुंड बैराज (ताजेवाला) से रविवार शाम छह बजे 8,28,072 क्यूसेक पानी यमुना नदी में छोड़ने से दिल्ली और नोएडा में बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है. हथिनीकुंड के इतिहास में अब तक इतना पानी एक बार में कभी नहीं छोड़ा गया. दिल्ली में यमुना का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है. सीएम केजरीवाल ने बाढ़ की स्थिति को देखते हुए आपात बैठक बुलाई है. सभी संबंधित अधिकारियों को मौजूद रहने के आदेश दिए हैं. बैठक दोपहर एक बजे होगी. केजरीवाल ने एक ट्वीट के जरिये यह जानकारी दी. 

पुरानी दिल्ली रेलवे पुल पर सुबह 7 बजे का जलस्तर 204.42 मीटर था. 8 बजे का जलस्तर 204.56 मीटर है. पुरानी दिल्ली रेलवे ब्रिज पर खतरे का निशान 205.33 मीटर है. प्रशासन का अनुमान है कि आज यमुना का जलस्तर 207 मीटर तक पंहुच सकता है.
  
नोएडा में भी बाढ़ का खतरा बढ़ा
गौतमबुद्ध नगर के जिला अधिकारी बीएन सिंह ने यमुना के किनारे रहने वालों को सभी जरूरी सामान लेकर सुरक्षित स्थानों पर जाने की अपील की है. गौतम बुद्ध नगर जिला प्रशासन के प्रवक्ता राकेश चौहान ने बताया कि पानी के मंगलवार की रात तक नई दिल्ली में ओखला बैराज पर पहुंचने की संभावना है.


उन्होंने कहा कि जिला अधिकारी ने बाढ़ एवं सिंचाई विभाग समेत अन्य संबंधित सरकारी एजेंसियों को सतर्क रहने, पानी की स्थिति पर नजर बनाए रखने और आवश्यकता पड़ने पर सुरक्षात्मक कदम उठाने के निर्देश दिए हैं.