मुख्यमंत्री कमलनाथ अभी मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष भी हैं. एक व्यक्ति एक पद के फॉर्मूले के तहत उनका पीसीसी चीफ का पद छोड़ना तय है. लोकसभा चुनाव में हार के बाद से उनके पीसीसी चीफ का पद छोड़ने की अटकलें, चर्चा और एक हद तक दबाव भी है. वो खुद भी इस्तीफे की पेशकश पार्टी आलाकमान के सामने कर चुके हैं.
22 अगस्त सोनिया गांधी से मिलेंगे कमलनाथ
अब पीसीसी चीफ बदला जाना तय है. सीएम और वर्तमान पीसीसी चीफ कमलनाथ 22 अगस्त को दिल्ली में होंगे वो उसी दिन पार्टी की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाक़ात करने वाले हैं.इस मुलाक़ात में उनकी नये अध्यक्ष को लेकर चर्चा होने की संभावना है. उसके बाद पीसीसी चीफ के नाम की घोषणा की जा सकती है.यह संभावना है कि 22 अगस्त को दिल्ली में होने वाले राजीव गांधी के 75 वें जयंती समारोह के बाद नये पीसीसी चीफ के नाम का ऐलान होगा. इस समारोह में मध्य प्रदेश कांग्रेस के सभी जनप्रतिनिधि और पदाधिकारी शामिल होंगे.
इससे पहले प्रदेश में राजनीतिक हलचल तेज़ है. पार्टी के प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया आज नये पीसीसी चीफ को लेकर पार्टी सदस्यों से रायशुमारी करने वाले हैं. सिंधिया समर्थक बार-बार हर मंच और मौके पर ज्योतिरादित्य सिंधिया को प्रदेश पार्टी की कमान सौंपने की मांग कर चुके हैं. लेकिन फिलहाल इस रेस में बाला बच्चन का नाम सबसे आगे चल रहा है.
बाला बच्चन सबसे आगे
प्रदेश के मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की कमान सीएम कमलनाथ के पसंद के व्यक्ति को मिलेगी, ताकि सत्ता और संगठन के बीच बेहतर समन्वय के साथ काम हो सके. बाला बच्चन पीसीसी चीफ के लिए उपयुक्त चेहरा हैं. उन्होंने कहा कि सीएम कमलनाथ और सोनिया गांधी के बीच मशविरे के बाद ही पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद के नाम का ऐलान होगा.