श्रीनगर। नौकरशाह से नेता बने शाह फैसल अगर 14 अगस्त को दिल्ली में नहीं पकड़े गए होते  तो वह दिल्‍ली जाने के बजाय इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आइसीजे) में भारत के खिलाफ मामला दर्ज करा चुके होते। वह अनुच्छेद-370 समाप्त करने के केंद्र सरकार के फैसले के खिलाफ याचिका दायर करने वाले थे।

तुर्की के लिए जाने वाले थे 
सूत्रों ने बताया कि शाह फैसल को गत बुधवार को दिल्ली में उस समय पकड़ा गया था जब वह तुर्की के लिए रवाना होने वाले थे। वह तुर्की के बाद (हेग) नीदरलैंड जाने वाले थे ताकि वह आइसीजे में भारत के खिलाफ मामला दर्ज करा सकें। हालांकि संयुक्त राष्ट्र के चार्टर के मुताबिक कोई भी आम आदमी निजी हैसियत से आइसीजे में केस दायर नहीं कर सकता।