रायपुर। मुख्य सचिव सुनील कुमार कुजूर की अध्यक्षता में आज यहां मंत्रालय (महानदी) भवन में पर्यावरण एवं आवास विभाग की बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में राज्य के विभिन्न उपक्रमों में उत्पादित हो रहे फ्लाई ऐश का शासकीय निर्माण कार्यों में अधिक से अधिक उपयोग करने पर चर्चा की गई। मुख्य सचिव ने कहा है कि राज्य में कार्य कर रहे विभिन्न उपक्रमों के द्वारा अधिक से अधिक फ्लाई ऐश की आपूर्ति शासकीय निर्माण कार्य में लगे एजेसिंयों-स्थानों में किया जाए। इसके लिए जरूरी प्रक्रियाओं का निर्धारण जल्द से जल्द कर लिया जाए। बैठक में सूराकछार 03 एवं 04 खदान, मानिकपुर खदान में फ्लाई ऐश अपवहन, फ्लाई ऐश से रेत बनाने की परियोजना, एस.ई.सी.एल. की भूमिगत एवं खुली खदानों में फ्लाई ऐश अपवहन, रायपुर, बिलासपुर राष्ट्रीय राजमार्ग में फ्लाई ऐश अपवहन और लोक निर्माण विभाग एवं अन्य निर्माण विभागों द्वारा किए जा रहे शासकीय निर्माण कार्यों में फ्लाई ऐश के अपवहन के प्रगति के समीक्षा की गई। बैठक में प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री सचिवालय श्री गौरव द्विवेदी, सचिव जल संसाधन अविनाश चम्पावत, सचिव लोक निर्माण विभाग श्री अनिल राय, विशेष सचिव खनिज संसाधन विभाग अन्बलगन पी., विशेष सचिव आवास एवं पर्यावरण सुश्री पी. संगीता सहित जिंदल पॉवर लिमिटेड, टी.आर.एन. एनर्जी पॉवर लिमिटेड, कोरबा वेस्ट पॉवर कम्पनी, एस.के.एस. जनरेशन पॉवर कम्पनी, एन.टी.पी.सी. लिमिटेड, लेंको अमरकंटक पॉवर लिमिटेड, छत्तीसगढ़ पॉवर जनरेशन कम्पनी, बाल्को कोरबा सुपर थर्मल पॉवर प्रोजेक्ट, नेशनल थर्मल पॉवर कम्पनी, स्पेक्ट्रम कोल एण्ड पॉवर लिमिटेड, मारूति क्लीन कोल एण्ड पॉवर लिमिटेड के प्रतिनिधि और विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।