उज्जैन: भगवान भोलेनाथ की नगरी उज्जैन में वैसे तो भक्त बाबा महाकाल के दर्शनों के लिए दूर-दूर से आते हैं और प्रसाद के रूप में उन्हें लड्डू-चने-चिरौंजी आदि चढ़ाते हैं. लेकिन दूर-दूर से आने वाले श्रद्धालु दर्शनों के बाद भांग की दुकानों पर नजर आते हैं. दरअसल, सावन के महीने में बड़ी संख्या में श्रद्धालु भांग का सेवन करते हैं. वह इसे मादक पदार्थ के रूप में नहीं बल्कि बाबा महाकाल के प्रसाद के रूप में सेवन करते नजर आते हैं.

विश्व प्रसिद्ध महाकाल मंदिर में रोजाना एक बार भांग से श्रृंगार किया जाता है. मान्यता यही है कि शिव को भांग अति प्रिय है. इसी को लेकर श्रद्धालु भी भांग का प्रसाद के रूप में सेवन करते नजर आते हैं. महाकाल मंदिर के सामने कई वर्षों से संचालित होने वाली भांग की दुकान पर सावन के महीने में अचानक भीड़ बढ़ गई है. भीड़ इतनी की भांग लेने के लिए भी लाइन में लगना पड़ रहा है.

भांग की दुकान को संचालित करने वाले बताते हैं कि सावन के पूरे 1 महीने में भांग की खपत 10 गुना तक बढ़ जाती है. पिछले 15 दिनों में इस छोटी सी दुकान पर करीब 5 क्विंटल से अधिक भांग बिक चुकी है. लगातार श्रद्धालु आकर बाबा महाकाल का प्रसाद यहां से ग्रहण कर रहे हैं. श्रद्धालु भी बताते हैं कि भांग को प्रसाद के रूप में लिया जाता है और देश भर से आए अलग अलग अलग श्रद्धालु दर्शनों के बाद बाबा महाकाल का प्रसाद लेकर ही यहां से जाते हैं.