उज्जैनः विश्व प्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर के शिखर स्थित नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट साल में एक बार रात 12 बजे खुलते हैं. जो अगले दिन रात 12 बजे तक 24 घण्टे के लिए सतत खुले रहते हैं. आज सोमवार को नागपंचमी होने के चलते विशेष दिन माना जा रहा है. महाकाल मंदिर में स्थित नागचंद्रेश्वर मंदिर के मंहत प्रकाश पुरी महाराज और उनके प्रतिनिधियों ने पट खुलने के बाद शेषनाग पर विराजित भगवान शिव और माता पार्वती की मूर्ति की पूजा की और करीब एक घंटे तक पूजा के बाद श्रृद्धालुओं के लिए मंदिर में दर्शन शुरू किए गए. 

विश्वप्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर में दर्शन के लिए यूं तो हर दिन हजारों भक्तों की भीड़ उमड़ती है, लेकिन नागपंचमी के दिन महाकाल मंदिर के शिखर के मध्य में स्थित नागचंद्रेश्वर के दर्शनों को करने के लिए श्रृद्धालुओं को सालभर इंतजार करना पडता है. इसका कारण यह है कि यह मंदिर साल में केवल एक बार नागपंचमी के दिन ही खुलता है और इस दिन लाखों लोग भगवान नागचंद्रेश्वर के दर्शन कर अपने को धन्य समझते हैं. नागपंचमी के दिन होने वाले दर्शनों के लिए शाम से ही श्रृद्धालु लाइन में लगे थे.

भगवान नागचंद्रेश्वर के इस दुर्लभ दर्शन को पाने की चाह में बूढ़े, बच्चे, महिला-पुरुष सभी कई घण्टो तक इंतजार करते नजर आए. रात 12 बजे जैसे ही मंदिर के महंत प्रकाश पुरी जी महाराज मंदिर के पट खोलने के लिए पहुचते हैं तो जय महाकाल के उद्घोष से पुरा आकाश गुजांयमान हो जाता है. भगवान नागचंद्रेश्वर के जन्मदिन के रुप में मनाया जाने वाला यह पर्व प्रतिवर्ष लाखों श्रद्धालुओं द्वारा इसी आनंद-उमंग और पूर्ण आस्था के साथ मनाया जाता है.
11वीं शताब्दी के परमार कालीन इस मंदिर के शिखर के मध्य बने नागचंद्रेश्वर के मंदिर में शेष नाग पर विराजित भगवान शिव तथा पार्वती की यह दुर्लभ प्रतिमा है. साल में केवल एक बार ही खुलने वाले इस मंदिर के दर्शन के लिए करीब पांच लाख श्रृद्धालु उज्जैन पंहुचंगे. मंदिर में सुरक्षा को देखते हुए बम स्क्वाड, सीसीटीवी कैमरे, मेटल डिटेक्टर के अलावा 1500 पुलिसकर्मी और प्रशासनिक अमले के आला अधिकारी मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था संभाले हुए है यह मंदिर काफी प्राचीन है. माना जाता है कि परमार राजा भोज ने 1050 ईस्वी के लगभग इस मंदिर का निर्माण करवाया था.
इसके बाद सिं‍धिया घराने के महाराज राणोजी सिंधिया ने 1732 में महाकाल मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया था. उस समय इस मंदिर का भी जीर्णोद्धार हुआ था. नागपंचमी पर श्रद्धालू यही मनोकामना रहती है कि नागराज पर विराजे शिवशंभु की उन्हें एक झलक मिल जाए. लगभग पांच लाख से ज्यादा भक्त एक ही दिन में नागदेव के दर्शन करते हैं. नागचंद्रेश्वर मंदिर की पूजा और व्यवस्था महानिर्वाणी अखाड़े के संन्यासियों द्वारा की जाती है.