जोधपुर । केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्रसिंह शेखावत ने शनिवार को जोधपुर प्रवास के दौरान पानी को लेकर गहरा रहे संकट पर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि जल संकट देश के सामने सबसे बड़ी चुनौती है। वैसे तो पूरे विश्व में पानी का संकट है, लेकिन भारत में जनसंख्या अधिक होने से स्थिति और भी गंभीर हो जाएगी। ऐसी स्थिति में हमें पानी को लेकर जागरूक होना होगा। अजीत कॉलोनी स्थित निवास पर पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत करते हुए शेखावत ने कहा कि देश के नागरिकों को जल संकट से निपटने के लिए Óयादा से यादा जल का संचय करना होगा। उन्होंने मन की बात कार्यक्रम में पीएम नरेंद्र मोदी के पानी को लेकर जन आंदोलन चलाने की बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि अब हर व्यक्ति को पानी का विवेकपूर्ण उपयोग करना होगा। एक बूंद पानी बचाने का अर्थ है कि एक बूंद पानी सृजित करना। उन्होंने पाली के लिए वाटर ट्रेन चलाने के पूछे गए सवाल पर कहा कि यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। पहले जोधपुर में पाली से पानी आता था। पाली के जवाई बांध ने दशकों तक जोधपुर को पानी पिलाया है। उन्होंने कहा कि पाली सांसद पीपी चौधरी ने इस समस्या पर रेलमंत्री से मुलाकात कर अपनी बात रखी है। देश में चल रहे जलशक्ति अभियान के बारे में कहा कि अब तक 256 जिलों में देश के बड़े अधिकारी व केंद्र में काम करने वाले हाइड्रो इंजीनियर्स का पहला प्रवास हो चुका है। इसमें चर्चा काफी उत्साहपूर्वक हुई। पहला चरण 15 सितंबर तक पूर्ण होगा। 
निवास पर की जनसुनवाई, अफसरों को दिए निर्देश : जलशक्ति मंत्री शेखावत ने शनिवार को अजीत कॉलोनी में स्थित निवास पर आम नागरिकों से मुलाकात कर उनकी समस्याओं को भी सुना। कुछ समस्याओं के समाधान के लिए अफसरों को दूरभाष पर बातचीत कर निर्देश भी दिए। इसके बाद राÓयसभा सांसद नारायण पंचारिया के साथ फलोदी गए। शेखावत का फलोदी में भी स्वागत-सत्कार हुआ। भाजपा के विभिन्न मंडलों में आयोजित अभिनंदन समारोह में भी शेखावत शामिल हुए। फलोदी देहात अध्यक्ष रेवतसिंह राजपुरोहित की अगुवाई में भाजपा पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने शेखावत का स्वागत किया।