मुंबई  टीम इंडिया के अनुभवी खिलाड़ी और पूर्व कप्तान महेन्द सिंह धोनी अभी संन्यास नहीं लेंगे बल्कि टीम को बदलावों के लिए तैयार करेंगे। विश्व कप के बाद माना जा रहा था कि धोनी किसी भी समय खेल को अलविदा कहने की घोषणा कर सकते हैं। धोनी विंडीज दौरे के लिए उपलब्ध नहीं हैं लेकिन वह टीम को अभी बदलाव के इस दौर में मदद करेंगे। इसके तहत धोनी टीम के साथ विदेशी दौरे और घरेलू सीरीज में पहले विकेटकीपर के तौर पर नहीं जाएंगे। ऋषभ पंत उनकी जगह टीम में लेंगे और जब तक वह पूरी तरह जिम्मेदारी नहीं संभाल लेते, उनको तैयार किया जाएगा। इस दौरान धोनी उनकी मदद करेंगे।
सूत्रों ने बताया कि धोनी ने खुद को साबित किया है, वह इस तरह के शख्स हैं जो रिटायरमेंट के सवाल पर 'कब' के बजाय 'क्यों' जैसा सवाल करता है। उन्होंने कहा कि वह रिटायरमेंट लेंगे, लेकिन जल्दी क्या है। सूत्रों ने साथ ही कहा कि धोनी टीम में 15 में शामिल रह सकते हैं, लेकिन 11 का हिस्सा नहीं होंगे। वेस्ट इंडीज दौरे के लिए चयन समिति की बैठक गुरुवार को होनी है। ऋषभ से सीनियर दिनेश कार्तिक भी टीम का सदस्य रहेंगे, लेकिन यह चयनकर्ताओं पर निर्भर करता है कि उन्हें कितना फिट समझा जाएगा। 
ऋषभ को अगले साल होने वाले वर्ल्ड टी20 के लिए तैयार करने की जरूरत है। सूत्रों ने कहा कि वह ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 विश्व के समय 23 साल के हो जाएंगे। उन्होंने अपनी प्रतिभा को साबित किया है लेकिन कुछ काम करने की जरूरत है। एक साल का समय इस बदलाव के लिए काफी है। आईपीएल से जुड़े सूत्रों ने कहा कि साल 2018 में तीन साल के लिए क्रिकेटरों के साथ अनुबंध किया गया था। धोनी चेन्नै सुपर किंग्स के कप्तान हैं और टीम के पमुख स्तंभ हैं। सूत्रों ने कहा, 'धोनी अचानक संन्यास नहीं  ले सकते। भारतीय टीम ही नहीं, उन्हें सुपर किंग्स को भी तैयार करना होगा।'