मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा है कि युवाओं को अपनी सोच और नजरिए में समाज, परिवार, पर्यावरण और आध्यात्म को प्राथमिकता देना चाहिए। वे अपना कैरियर बनाएं लेकिन जीवन में ऐसा काम भी करें जिससे उन्हें आत्मिक शांति और संतुष्टि मिले। श्री नाथ आज इंदौर में निजी चैनल के 'माइंड रॉक यूथ समिट'' में बोल रहे थे।

मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कहा कि नौकरी और व्यवसाय के साथ युवाओं को देश और समाज के नव-निर्माण के लिए भी सोचना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमारी सोच में व्यापकता के साथ रचनात्मक दृष्टि होना जरूरी है। हम अपने सुख के लिए काम करें लेकिन हमें तभी आत्मिक शांति मिलेगी और हमारा जीवन सार्थक होगा, जब हम देश, समाज और गरीबों के लिए काम करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज कृषि क्षेत्र में क्रांतिकारी सुधार किए जाने की आवश्यकता है, क्योंकि हमारे प्रदेश की 70 प्रतिशत आबादी खेती-किसानी पर निर्भर है। कृषि क्षेत्र को मजबूत बनाने और किसानों की आय को दोगुना करने के लिए सरकार ने कृषि आधारित उद्योगों की दिशा में काम करना शुरू किया है। युवाओं को रोजगार मिले, इसके लिए प्रदेश में निवेश के लिए विश्वास का वातावरण बनाया है।

मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कहा कि मेरे लिए राजनीति सेवा का माध्यम है। इसके जरिए हम गरीबी दूर करने, किसानों को उनकी मेहनत का मूल्य दिलाने के लिए पहले दिन से काम कर रहे हैं। हमारी सरकार गरीबों, किसानों और युवाओं की हितैषी सरकार है। इन वर्गों के विकास और प्रदेश की समृद्धि के लिए हम ऐसी नीतियाँ लागू करेंगे, जिससे आने वाले एक साल में सरकार की उपलब्धियाँ हर क्षेत्र में दिखलाई देंगी।

मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कहा कि कानून-व्यवस्था को बनाए रखना सरकार की जिम्मेदारी होती है। कानून सबके लिए समान है। जो भी इसका उल्लंघन करे, उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई होना चाहिए। चाहे वह कितना ही बड़ा व्यक्ति क्यों न हो। मुख्यमंत्री ने बताया कि फुटबॉल, बेडमिंटन, हॉकी और पर्वतारोहण उनके व्यक्तिगत शौक रहे हैं।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने समिट में संघ लोक सेवा आयोग, मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग, केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड और मध्यप्रदेश शिक्षा मंडल की परिक्षाओं में उत्कृष्ट स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को सम्मानित किया।