स्कूलशिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने आज मॉडल स्कूल टी.टी. नगर में नव-प्रवेशी बच्चों को तिलक लगाकर तथा स्कूल की घंटी बजाकर 'स्कूल चलें  हम'' अभियान के द्वितीय चरण का शुभारंभ किया। मंत्री डॉ. चौधरी तथा जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने 'स्कूल चलें हम'' अभियान की संदेश पट्टिका के साथ गुब्बारे हवा में छोड़े।

डॉ. चौधरी ने कहा कि समाज में शिक्षा का स्तर ही विकास के सोपान निर्धारित करता है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार गुणवत्तायुक्त शिक्षा उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेगी। उन्होंने कहा कि बच्चों के विकास में अभिभावक और शिक्षक, दोनों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। उन्होंने शिक्षकों से कहा कि शिक्षण के अलावा बच्चों के व्यक्तित्व विकास वाली गतिविधियों को भी पर्याप्त समय दें।

डॉ. चौधरी ने कहा कि विद्यार्थियों को मिलने वाली सुविधाओं को सुव्यवस्थित किया गया है। प्रवेश के दिन ही नव-प्रवेशी बच्चों को पाठ्य-पुस्तकों का वितरण, पात्रतानुसार सायकल वितरण तथा यूनिफार्म के लिये बैंक खातों में राशि जमा की जा रही है। उन्होंने कहा कि शिक्षक, बच्चों को सुविकसित कर राष्ट्र निर्माण का कार्य करते हैं। इसलिये उन्हें पूर्ण समर्पण और निष्ठा से अपने दायित्व का निर्वहन करना चाहिये। उन्होंने अभिभावकों, शिक्षकों और प्रदेश के प्रत्येक नागरिक का आव्हान किया कि 'स्कूल चलें हम' अभियान को सफल बनायें, ताकि एक भी बच्चा स्कूल में नामांकित होने से और शिक्षा के अधिकार से वंचित न रहे।

प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरूण शमी ने कहा कि अभियान अंतर्गत सभी बच्चों का नामांकन, उपस्थिति, शाला में ठहराव तथा गुणवत्तापूर्ण शिक्षण सुनिश्चित किया जायेगा। संचालक राज्य शिक्षा केन्द्र श्रीमती आईटिन सिंथिया ने कहा कि अभियान का लक्ष्य कक्षा एक से 12 तक बच्चों के नामांकन, अद्यतन जॉयफुल लर्निंग, नियमित उपस्थिति तथा गुणवत्तायुक्त शिक्षा है।

इस अवसर पर नव-प्रवेशी, शालात्यागी तथा विशेष आवश्यकता वाले बच्चों का स्कूल में तिलक लगाकर स्वागत किया गया। उत्कृष्ट कार्य करने वाले जिला परियोजना समन्वयकों और बोर्ड परिक्षाओं में उत्कृष्ट परीक्षा परिणाम वाले विद्यालय के प्राचार्यों को प्रमाण-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। मंत्री डॉ. चौधरी ने पात्र विद्यार्थियों को साइकिलें प्रदान कीं। डॉ. चौधरी सूखी सेवनियां भी पहुँचे और पात्र बच्चों को साईकिल वितरित की।