नई दिल्ली : बजट से पहले भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) और वित्तीय संस्थानों के अधिकारियों समेत बैंकरों की गुरुवार को वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के साथ बैठक होगी. बैठक में सरकार बैंकों को एमएसएमई और छोटे कर्जकर्ताओं के लिए साख प्रवाह सुगम बनाने के लिए कह सकती है. बैंकरों और वित्तीय सेवा संस्थानों के बीच बैठक में गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (एनपीए) पर आरबीआई के संशोधित सर्कुलर पर अधिक जायजा लिए जाने की उम्मीद है.

बैंक साख में 14.88 फीसदी की बढ़ोतरी हुई
सूत्रों के अनुसार, वित्तमंत्री सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की वित्तीय सेहत सुधारने के तरीकों और उनके एनपीए की स्थिति व सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्यम (एमएसएमई) और कृषि क्षेत्र के लिए ऋण मुहैया करवाने में सुधार पर चर्चा कर सकती हैं. आरबीआई के आंकड़ों के अनुसार, बैंक साख में 14.88 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. सूत्रों ने बताया कि वित्तमंत्री पीएसयू बैंकों को आरबीआई द्वारा प्रमुख ब्याज दर में कटौती के फायदे का हस्तांतरण आम ग्राहकों तक करने की याद दिला सकती हैं.