लंदन । विश्वकप के रोमांच के बीच रविवार को भारतीय टीम अपना दूसरा मैच ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध खेलने उतरेगी। ऑस्ट्रेलिया को भी इस खिताब का प्रबल दावेदारों में गिना जा रहा है और गुरुवार को वेस्ट इंडीज के खिलाफ उसने यह बता दिया कि एक चैंपियन टीम आखिरकार कैसे मुश्किलों से उबरती है। कंगारू टीम वेस्ट इंडीज के खिलाफ एक वक्त पर 38 रन पर 4 विकेट गंवा चुकी थी और 79 रन तक पहुंचते-पहुंचते उसकी आधी टीम पविलियन में थी। इसके बावजूद कंगारू टीम ने 49वें ओवर में ऑल आउट होने से पहला अपना स्कोर 288 रन कर टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया। इस मैच में ऑस्ट्रेलिया ने 15 रन से जीत दर्ज की। फिलहाल भारत ऑस्ट्रेलिया के मुकाबले ज्यादा मजबूत नजर आ रही है। भारत और ऑस्ट्रेलिया के खेल की बात करें तो पिछले दो दशकों में दोनों टीमों के बीच प्रतिद्वंद्विता काफी बढ़ी है। अब भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच कोई भी मैच खेला जाता है तो दोनों टीमें पूरे जोश के साथ मैदान पर उतरती हैं। रविवार को होने वाले मैच में इसी तरह की प्रतिद्वंद्विता देखने को मिलेगी।
ऐसा नहीं है कि इस मैच को लेकर सारी चिंताएं सिर्फ भारतीय खेमे में ही हैं। टीम इंडिया इस वर्ल्ड कप में जिस कॉम्बिनेशन के साथ उतरी है वैसा कॉम्बिनेशन सिर्फ गिनी-चुनी के पास ही नजर आ रहा है। यहां टीम के पास 4-4 ऑलराउंडर हैं, जो बैटिंग, बोलिंग और फील्डिंग में उसकी ताकत को और बढ़ाते हैं। भारतीय स्पिनर मिडल ऑर्डर में विकेट चटकाकर टीम को बड़ा सपॉर्ट कर रहे है, जिसके चलते विरोधी टीम स्लॉग ओवरों में विस्फोट करने के अपने प्लान में सफल नहीं हो पाती। कंगारू टीम इस बात को लेकर भी चिंतित है कि वह भारत के खिलाफ जो भी चुनौती पेश करने की योजना बना रही है उसके पास हर प्लान की काट मौजूद है। कड़ी प्रतिस्पर्धा वाले मैच से पहले दोनों ही टीमों के खिलाड़ी मैच से पहले कड़ा अभ्यास करने का प्लान बना रहे होंगे। लेकिन इंग्लैंड के मौसम ने सभी के मंसूबों पर पानी फेर दिया। टीम इंडिया ने ओवल के मैदान पर शुक्रवार को सुबह 10 बजे अपना प्रैक्टिस सेशन प्लान किया था। लेकिन लंदन में बारिश ऐसी पड़ी कि उसने घंटों तक रुकने का नाम नहीं लिया। इस भीगे मौसम में खिलाड़ी होटल से बाहर ही नहीं निकल पाए। इस बीच राहत की बात यह है कि लंदन का वेदर रविवार को साफ रहेगा और दोनों टीमों के बीच मैच बारिश की बिना खलल के पूरा होगा। इससे पहले शनिवार को भी मौसम साफ रहेगा और दोनों टीमें मैच से पहले एक-दूसरे के खिलाफ अपने गेम प्लान को लेकर मैदान पर प्रैक्टिस कर सकेंगी।
दोनों टीमों के बीच अब तक खेले गए वनडे मैचों पर नजर डालें, तो अभी तक दोनों टीमों के बीच 136 वनडे मैच खेले गए हैं। इनमें 77 मैच जीतकर ऑस्ट्रेलिया भारत से कहीं आगे है। टीम इंडिया ने कंगारुओं के खिलाफ अभी तक 49 मैचों में ही जीत अपने नाम की है। भारतीय टीम रविवार को यहां कंगारुओं पर अपनी 50वीं जीत के लिए बेकरार होगी। हालांकि दोनों टीमों की इस वक्त जो ताकत है उसे देखकर माना जा रहा है कि इस मैच में पुराने आंकड़े खास मायने नहीं रखेंगे। दोनों टीमें टक्कर की हैं दोनों ही यहां खुद को श्रेष्ठ साबित करने के लिए एक-दूसरे को कड़ी टक्कर देती दिखेंगी। साल 2018 ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए किसी बुरे सपने की तरह गुजरा। इस साल कंगारू टीम ने 13 वनडे मैच खेले और 11 मैच गंवा दिए। इनमें से 7 मैच तो कंगारू टीम लगातार हार गई। इसके बाद 2019 में उन्होंने फिर से अपनी खोई लय हासिल करने में सफलता पाई। इस नए साल में अब तक कंगारू टीम 15 वनडे मैच खेल चुकी है और उसने 11 में जीत दर्ज की है। इस बीच उसकी टीम में स्टीव स्मिथ, डेविड वॉर्नर और मिशेल स्टार्क की वापसी भी हो गई है और अब टीम के पास ऐसी खास ताकत है, जिससे दूसरी टीमों के लिए चुनौती और बढ़ रही है।
कंगारू टीम इस टूर्नांमेंट में अपना खिताब बचाने के इरादे से उतरी है और अब उसके पास वह सभी विकल्प मौजूद हैं, जो एक टीम को वर्ल्ड चैंपियन बनाते हैं। टीम इंडिया भी यहां बड़े दावेदार के रूप में पहुंची है और रविवार का मैच यह बता देगा कि भारतीय टीम इस खिताब के लिए कितनी तैयार है। यहां भारतीय बल्लेबाजों की तकनीक और मानसिकता की भी कड़ी जांच होगी और भारतीय बोलिंग को परखने के लिए कंगारुओं के पास विशेषज्ञ बल्लेबाज हैं। वर्ल्ड कप में वैसे भी ऑस्ट्रेलिया को हराना आसान नहीं रहा है और इस बार भी वह अपनी उसी पहचान के साथ वर्ल्ड कप में दिखाई दे रही है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत का दूसरा ही मैच है। रणनीतिक तौर पर अगर भारत यह मैच गंवा भी देता है तो सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए उसके पास 7 लीग मैच और होंगे, जिसकी भरपाई वह अन्य मैचों से कर सकता है। लेकिन इस बीच अगर टीम इंडिया कंगारुओं को कड़ी टक्कर देती है और उसके लिए शिखर धवन, केएल राहुल, केदार जाधव यहां अपने बल्ले की चमक बिखेरते हैं तो इससे न केवल टीम के विश्वास को बढ़ावा मिलेगा बल्कि इन आगे के मैचों के लिए इन खिलाड़ियों का भी विश्वास बढ़ेगा।