जोधपुर। सूर्यनगरी में बुधवार को मौसम के कई रंग देखने को मिले। पांच दिन से जारी आंधी का दौर जारी रहा। शहर में सुबह धूल की चादर छाई हुई थी। दोपहर तक धूल नीचे बैठ गई और चटख धूप निकल आई। रात को मौसम एक बार फिर पलट गया और तेज आंधी के साथ आसमान में जोरदार बिजलियां कड़कना शुरू हो गई। आसमानी बिजली की जबरदस्त कड़कड़ाहट ने एक बार तो लोगों को डरा ही दिया। इसके बाद बिलकुल नीचे आ चुके बादल शहर पर जमकर बरसे। एक बार ऐसा लगा मानो मानसून सक्रिय हो चुका है।  शहर में आसमान में छाए धूल के गुबार के कारण कल सुबह के समय शहर में ऐसा लग रहा था मानो घना कोहरा छा गया हो। आसमान में छाई धूल ने गर्मी को थाम लिया। सुबह के वक्त सड़कों पर विजिबिलिटी केवल 500 मीटर तक ही थी। दोपहर 2 बजे बाद में धीरे-धीरे धूल नीचे उतरने लगी। मौसम के इस मिजाज से आमजन को गर्मी से राहत मिली। हालांकि न्यूनतम पारा 1.7 डिग्री बढ़ा, जबकि अधिकतम पारा 39.7 डिग्री बना रहा। रात 10 बजे के बाद मौसम फिर बदला। फिर धूलभरी हवाएं चलीं, इसके बाद शहर में कई स्थानों पर बारिश हुई और बिजलियां चमकती रहीं। शहर के कुछ हिस्सों में जोरदार बारिश के कारम सड़कों पर पानी बहने लग गया। वहींकुछ स्थान पर पानी भरने से यातायात प्रभावित हुआ।  जोधपुर शहर में रात को आंधी व बारिश के साथ शहर का तापमान महज 1 घंटे में करीब 6 डिग्री सेल्सियस उतर गया। मौसम विभाग के अनुसार रात 8:30 बजे 34.4 डिग्री सेल्सियस तापमान था, लेकिन रात 11:30 बजे 28.6 डिग्री रिकॉर्ड किया गया। इसका कारण रात 10:30 बजे मौसम बदलना था।  पश्चिमी विक्षोभ में सामान्यत: हवाएं पश्चिम से चलती हैं, लेकिन बुधवार रात हवा उत्तर-पश्चिम से चलीं और इस दिशा से बादल जोधपुर की तरफ बढऩे लगे। दिन का पारा 39.7 डिग्री था। इससे शहर में गर्मी थी, जिससे अरब सागर की तरफ से उन्हें नमी मिल गई और देर रात बादलों की गडग़ड़ाहट के साथ बारिश होने लगी।  सामान्यत: बादलों की ऊंचाई 4 हजार मीटर रहती है। जब ये घने होते हैं तो 1500 मीटर हो जाती है। शाम 5:30 बजे 1500 मीटरपर थे। रात 10:30 बजे बादल 900 मीटर पर आ गए और तेज बारिश हुई।  जयपुर मौसम विभाग के निदेशक शिवगणेश के बताया कि दो पश्चिमी विक्षोभ उत्तर पश्चिमी भारत की तरफ आ रहे है जो राजस्थान को प्रभावित करेंगे। इससे अगले एक-दो दिन 30-40 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से धूलभरी आंधी, बिजली गिरने की संभावना है।